एक बार जान-ए-जाना – Ek Baar Jaan-e-Jaana (Kaala Sona)


फ़िल्म/एल्बम: काला सोना (1975)
संगीतकार: आर.डी.बर्मन
गीतकार: मजरूह सुल्तानपुरी
गायक/गायिका: आशा भोंसले


एक बार जान-ए-जाना
इकरार करते जाना
झूठ ही कह दो
मेरा दिल रख दो
चाहे फिर तुम न आना
एक बार जाने जाना…

झूठी बातें भी यार की
लगती है बातें प्यार की
हम भी क्या करें
तुम भी क्या करो
देखो ना सनम, अरे हां
एक बार जान-ए-जाना…

तुम जो मिल जाओ एक बार
मैं भी फिसला दूं वो बहार
भूले ना कभी सारी ज़िन्दगी
अल्लाह की कसम, अरे हां
एक बार जाने जाना…

Advertisements

ताक झुम नाचो नशे में – Tak Jhum Naacho Nashe Mein (Kaala Sona)


फ़िल्म/एल्बम: काला सोना (1975)
संगीतकार: आर.डी.बर्मन
गीतकार: मजरूह सुल्तानपुरी
गायक/गायिका: किशोर कुमार, आशा भोंसले


ताक झूम ताक झूम
ताक झूम नाचो नशे में चूर
यारा हमसे है थोड़ी दूर आने वाली बहार
झूमो रे गाओ रे आओ रे आओ

ये कंगन के हाथ, ये पायल के पांव
ये बिंदिया की बस्ती, ये झुमके का गांव
हाय गज़ब कितना सूना था सब
आज होने दो घुंघरू की खनकार
ताक झूम नाचो नशे…

आ डालूं गले, ये बाहों का हार
मैं जीना सिखाऊं, मैं सिखलाऊं प्यार
मिल के सनम आ मनाएंगे हम
आज दिल से दिल मिलने का त्यौहार
ताक झूम नाचो नशे…