दीवाना मैं ना था दीवाना बन गया – Diwana Main Na Tha (Indian)


फ़िल्म: इंडियन (2001)
संगीतकार: आनंद राज आनंद
गीतकार: आनंद बक्षी
गायक/गायिका: अल्का याग्निक, शान


दीवाना मैं ना था दीवाना बन गया
कब कैसे और क्या अफ़साना बन गया
ना तुझे है ख़बर, ना मुझे है मगर
जाने कब दिल से दिल मिल गया
दीवानी मैं हो गई, दीवाना मैं हो गया
दीवाना तू ना था, दीवाना बन गया
कब कैसे और क्या अफ़साना बन गया

जादू निग़ाहों का तेरी, मुझपे असर कर गया है
दिल दीवाना तुम्हारा, वादा कोई कर गया है
मैंने माना मेरी जां मैंने माना
दिल जो बोला वही कर दिया
दीवानी मैं हो गई…

धड़कने सुन रही हैं, धड़कनों की ज़ुबां को
ऐसा हसीं हो नज़ारा तो, कैसे ना अरमां जवां हो
तेरे बिन एक पल नहीं जीना
मैंने ये फ़ैसला कर लिया
दीवानी मैं हो गई…

Advertisements

वतन वालों वतन ना बेच देना – Watan Walon Watan Na Bech Dena (Indian)


फ़िल्म: इंडियन (2001)
संगीतकार: आनंद राज आनंद
गीतकार: आनंद बक्षी
गायक/गायिका: रूप कुमार राठोड़


वतन वालों वतन ना बेच देना
ये धरती, ये गगन ना बेच देना
शहीदों ने जान दी है, वतन के वास्ते
शहीदों के कफ़न ना बेच देना

दोस्तों, साथियों, हम चले दे चले
अपना दिल अपनी जां
ताकि जीता रहे अपना हिन्दोस्तां
हम जीये, हम मरे, इस वतन के लिए
इस चमन के लिए
ताकि खिलते रहें गुल हमेशा यहां
दोस्तों, साथियों

दोस्तों से मिलो दोस्तों की तरह
दुश्मनों से मिलो दुश्मनों की तरह
जीना क्या, मरना क्या, बुज़दिलों की तरह
कह रहा ये वतन, ये ज़मीं आसमां

मांओं ने अपने बेटे दिए नौजवां
सोचकर और क्या
ताकि जीता रहे अपना हिन्दोस्तां

मातृ-भूमि का दिल, तू नहीं तोड़ना
देश के दुश्मनों को नहीं छोड़ना
मरना जीना तुझे, इस वतन के लिए
फ़र्ज़ अपना निभा दे अमन के लिए
नाज़ तुमपे करे, ये ज़मीं-आसमां
देते हैं ये दुआ
ताकि जीता रहे अपना हिन्दोस्तां

देश के नाम अपनी जवानी लिखी
ये जवानी है क्या ज़िन्दगानी लिखी
बस यहां तक की हमने कहानी लिखी
अब लिखो इसके आगे की तुम दास्तां
फ़र्ज़ कर दो अदा
ताकि जीता रहे अपना हिन्दोस्तां
दोस्तों, साथियों, हम चले दे चले…