दो नैन मिले दो फूल खिले – Do Nain Mile Do Phool Khile (Ghunghat)


फ़िल्म/एल्बम: घूंघट (1960)
संगीतकार: रवि
गीतकार: शकील बदायुनी
गायक/गायिका: आशा भोंसले, महेंद्र कपूर


दो नैन मिले, दो फूल खिले
दुनिया में बहार आई
एक रंग नया लायी, एक रंग नया लायी
दिल गाने लगा, लहराने लगा
ली प्यार ने अंगड़ाई
बजने लगी शहनाई, बजने लगी शहनाई
दो नैन मिले…

अरमान भरी नज़रों से बलम
इस तरह हमें देखा न करो
हो जाए ना रुसवा इश्क़ कहीं
दुनिया है बुरी, दुनिया से डरो
दुनिया का मुझे कुछ खौफ़ नहीं
दुनिया तो है हरजाई, और इश्क़ है सौदाई
दो नैन मिले…

ज़ुल्फों की घनी छांव में सनम
दम भर के लिए जीने दे मुझे
इस मस्त नज़र की तुझको कसम
आंखों से ज़रा पीने दे मुझे
पीना तो कोई दुश्वार नहीं
ओ प्यार के शहदायी, बहके तो है रुसवाई
दो नैन मिले…

Advertisements

हम भी अगर बच्चे होते – Hum Bhi Agar Bachche Hote (Door Ki Awaz)


फ़िल्म/एल्बम: दूर की आवाज़ (1964)
संगीतकार: रवि
गीतकार: शकील बदायुनी
गायक/गायिका: मो.रफ़ी, आशा भोंसले, मन्ना डे


हम भी अगर बच्चे होते
नाम हमारा होता गबलू-बबलू
खाने को मिलते लड्डू
और दुनिया कहती
हैप्पी बर्थडे टू यू
कोई लाता गुड़िया, मोटर, रेल
तो कोई लाता फिरकी, लट्टू
कोई चाबी का टट्टू
और दुनिया कहती
हैप्पी बर्थडे टू यू

कितनी प्यारी होती है ये भोली सी उमर
न नौकरी की चिन्ता, न रोटी की फिकर
नन्हें-मुन्ने होते हम तो देते सौ हुकम
पीछे-पीछे डैडी-मम्मी बन के नौकर
चॉकलेट, बिस्कुट, टॉफ़ी खाते और पीते दुद्दू
और दुनिया कहती
हैप्पी बर्थडे टू यू…

कैसे-कैसे नख़रे करते घरवालों से हम
पल में हंसते, पल में रोते, करते नाक में दम
अक्कड़-बक्कड़, लुक्का-छुप्पी, कभी छुआ-छू
करते दिन भर हल्ला-गुल्ला, दंगा और उधम
और कभी ज़िद पर अड़ जाते, जैसे अड़ियल टट्टू
और दुनिया कहती
हैप्पी बर्थडे टू यू…

अब तो ये है हाल के जब से बीता बचपन
मां से झगड़ा, बाप से टक्कर, बीवी से अनबन
कोल्हू के हम बैल बने हैं, धोबी के गद्धे
दुनिया भर के डण्डे सर पे खायें दनादन
बचपन अपना होता तो न करते ढेंचू-ढेंचू
और दुनिया कहती
हैप्पी बर्थडे टू यू…

आज की रात मेरे, दिल की सलामी ले ले – Aaj Ki Raat Mere Dil Ki Salami Le Le


फ़िल्म: राम और श्याम / Ram Aur Shyam (1967)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: नौशाद
गीतकार: शकील बदांयुनी
अदाकार: दिलीप कुमार, वहीदा रहमान


ये रात जैसे दुल्हन बन गई है चिरागों से
करुंगा उजाला मैं दिल के दाग़ों से

आज की रात मेरे, दिल की सलामी ले ले
दिल की सलामी ले ले
कल तेरी बज़्म से दीवाना चला जाएगा
शम्मा रहे जाएगी परवाना चला जाएगा

तेरी महफ़िल तेरे जलवे हों मुबारक तुझको
तेरी उल्फ़त से नहीं आज भी इनकार मुझे
तेरा मय-खाना सलामत रहे ऐ जान-ए-वफ़ा
मुस्कुराकर तू ज़रा देख ले इक बार मुझे
फिर तेरे प्यार का मस्ताना चला जाएगा

मैने चाहा कि बता दूँ मैं हक़ीक़त अपनी
तूने लेकिन न मेरा राज़-ए-मुहब्बत समझा
मेरी उलझन मेरे हालात यहाँ तक पहुंचे
तेरी आँखों ने मेरे प्यार को नफ़रत समझा
अब तेरी राह से बेगाना चला जाएगा

तू मेरा साथ न दे राह-ए-मुहब्बत में सनम
चलते-चलते मैं किसी राह पे मुड़ जाऊंगा
कहकशां चांद सितारे तेरे चूमेंगे क़दम
तेरे रस्ते की मैं एक धूल हूँ उड़ जाऊंगा
साथ मेरे मेरा अफ़साना चला जाएगा

ओ बालम तेरे प्यार की ठंडी आग में जलते-जलते – O Balam Tere Pyar Ki Thandi Aag


फ़िल्म: राम और श्याम / Ram Aur Shyam (1967)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले
संगीतकार: नौशाद
गीतकार: शकील बदांयुनी
अदाकार: वहीदा रहमान, प्राण, मुमताज़, दिलीप कुमार


ओ बालम तेरे प्यार की ठंडी आग में जलते-जलते – 2
मैं तो हार गई रे – 4
लूट लिया दिल तूने मेरा राह में चलते-चलते – 2
नैना मार गई रे – 4

मैं हूँ बावरिया तेरी साँवरिया दिल से जाना ना
आज मिली हो जैसे अकेली कल भी चली आना
चन्दा और सूरज की तरह रोज़ निकलते-ढलते
मैं तो हार गई रे – 2
लूट लिया दिल…
बालम तेरे…

डाल के जादू रूप का तूने दिल मेरा छीना
प्रीतम तूने प्रीत जगा दी छेड़ के मन बीना
नैनों में भर के प्यार का कजरा अखियाँ मलते-मलते
नैना मार गई रे – 2
बालम तेरे…

मैं हूँ साक़ी तू है शराबी-शराबी – Main Hoon Saqi Tu Hai Sharabi-Sharabi


फ़िल्म: राम और श्याम / Ram Aur Shyam (1967)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
संगीतकार: नौशाद
गीतकार: शकील बदांयुनी
अदाकार: वहीदा रहमान, प्राण, मुमताज़, दिलीप कुमार


मैं हूँ साक़ी तू है शराबी-शराबी – 2
तूने आँखों से पिलाई वो नशा है के दुहाई
हर तरफ़ दिल के चमन में फूल खिले हैं गुलाबी-गुलाबी
मैं हूँ साक़ी…

इश्क़ में जीना स.म्भल के दिल का पैमाना ना छलके
बहकी-बहकी तेरी नज़रें ख़्वाब दिखलाती हैं कल के – 2
तेरी महफ़िल में ओ साक़ी हम चले आए नशे में
अब तो बस ये है तमन्ना उम्र कट जाए नशे में – 2
इश्क़ है तेरी सवाली – 2
हुस्न है मेरा जवाबी-जवाबी
तू है साक़ी मैं हूँ शराबी-शराबी

मैं तेरी दुनिया में आ के रह गया खुद को भुला के
क्या हो अन्जाम ना जाने होश उल्फ़त में गंवा के – 2
बेखुदी के ये तराने यूँ ही गाए जा दीवाने
इश्क़ रंग लाएगा अपना आ गए अब वो ज़माने – 2
तेरी मस्तानी ये बातें
आ आ
तेरी मस्तानी ये बातें दिल पे लाएँ ना ख़राबी-ख़राबी
मैं हूँ साक़ी…