किसको प्यार करूं – Kisko Pyar Karoon (Tumse Achcha Kaun Hai)


फ़िल्म/एल्बम: तुमसे अच्छा कौन है (1969)
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: राजेंद्र कृष्ण
गायक/गायिका: मो.रफ़ी


किस किस-किस
किसको प्यार करूं
कैसे प्यार करूं
तू भी है, ये भी है
वो भी है, हाय!
किसको प्यार करूं…

मेरे लिए तो हो गयी मुश्किल
कैसे बांटूं एक मेरा दिल
किसको प्यार करूं…

देखूं जिधर मैं, शोले ही शोले
दिल है आखिर, कैसे न डोले हाय
किसको प्यार करूं…

इक-इक सूरत, प्यार की मूरत
सबको लेकिन, मेरी ज़ुरूरत
किसको प्यार करूं…

Advertisements

तितली उड़ी उड़ जो चली – Titli Udi Ud Jo Chali (Suraj)


फ़िल्म/एल्बम: सूरज (1966)
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: शैलेन्द्र
गायक/गायिका: शारदा


तितली उड़ी, उड़ जो चली
फूल ने कहा, आजा मेरे पास
तितली कहे, मैं चली आकाश

खिले हैं गगन में, तारों के जो फूल
वहीं मेरी मंज़िल, कैसे जाऊं भूल
जहां नहीं बंधन, ना कोई दीवार
जाना है मुझे वहां, बादलों के पार
तितली उड़ी, उड़ जो चली…

फूल ने कहा, तेरा जाना है बेकार
कौन है वहां जो करे तेरा इंतज़ार
बोली तितली, दोनों पंख पसार
वहां पे मिलेगा मेरा राजकुमार
तितली उड़ी, उड़ जो चली…

तितली ने पूरी जब कर ली उड़ान
नई दुनिया में हुई नई पहचान
मिला उसे सपनों का राजकुमार
तितली को मिल गया मनचाहा प्यार
तितली उड़ी, उड़ जो चली…

छोटी सी मुलाकात प्यार – Chhoti Si Mulaqat Pyar Ban Gayi (Chhoti Si Mulaqat)


फ़िल्म/एल्बम: छोटी सी मुलाकात (1967)
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
गायक/गायिका: मो.रफ़ी, आशा भोंसले


छोटी सी मुलाक़ात प्यार बन गई
प्यार बन के गले का हार बन गई
या या यिप्पी यिप्पी या या या…
छोटी सी मुलाकात…

बांकपन तेरा, प्यार की अदा
होश ले गई, सरकार की अदा
सरकार की अदा दिलदार बन गई
दिलदार बन के गले का हार बन गई
या या यिप्पी…

आगे बढ़ चुके मंज़िलों से हम
पीछे रह गए चांद के कदम
रात ये सुहानी बहार बन गई
बहार बन के गले का हार बन गई
या या यिप्पी…
छोटी सी मुलाकात…

तुम हो बांह में, दिल की राह में
तुम खयाल में, तुम निगाह में
जब झुकी नज़र इकरार बन गई
इकरार बन के गले का हार बन गई
या या यिप्पी…
छोटी सी मुलाकात…

जाने कहां गयी – Jaane Kahan Gayi (Dil Apna Aur Preet Parai)


फ़िल्म/एल्बम: दिल अपना और प्रीत पराई (1960)
संगीतकार: शंकर जयकिशन
गीतकार: शैलेन्द्र
गायक/गायिका: मो.रफ़ी


जाने कहां गई, जाने कहां गई
दिल मेरा ले गई, ले गई वो
जाने कहां गई…

देखते-देखते क्या से क्या हो गया
धड़कनें रह गईं, दिल जुदा हो गया
जाने कहां गई…

आज टूटा हुआ दिल का ये साज़ है
अब वो नग्में कहां सिर्फ़ आवाज़ है
जाने कहां गई…

घूटता रहता ना दम, जान तो छूटती
काश कहता कोई, वो मोहब्बत न थी
जाने कहां गई…

हाल क्या है मेरा, आ के खुद देख जा
अब तेरे हाथ है जीना-मरना मेरा
जाने कहां गई…

जोश-ए-जवानी हाय रे हाय निकले जिधर से धूम मचाये – Josh-e-Jawani Haay Re Haay


फ़िल्म: अराउंड द वर्ल्ड / Around The World (1967)
गायक/गायिका: मुकेश
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: राज कपूर, राजश्री


जोश-ए-जवानी हाय रे हाय
निकले जिधर से धूम मचाये
दुनिया का मेला, मैं हूँ अकेला
कितना अकेला हूँ मैं
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

शाम का रंगीं शोख़ नज़ारा
और बेचारा ये दिल
ढूँध के हारा, कोई सहारा
पर न मिली मंज़िल
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

कोई तो हमसे दो बात करता
कोई तो कहता हलो
घर न बुलाता पर ये तो कहता
कुछ दूर तक संग चलो
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

बेकार गुज़रे हम इस तरफ़ से
बेकार था ये सफ़र
अब दर-ब-दर की खाते हैं ठोकर
राजा जो थे अपने घर
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…