ये मौसम आया है कितने सालों में – Ye Mausam Aaya Hai (Aakraman)


फ़िल्म/एल्बम: आक्रमण (1975)
संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
गीतकार: आनंद बक्षी
गायक/गायिका: किशोर कुमार, लता मंगेशकर


ये मौसम आया है कितने सालों में
आजा कि खो जाएं ख्वाबों ख्यालों में

आंखों का मिलना खूब रहा है
ये दिल दिवाना डूब रहा है
मतवाले नैनों के
इन शरबती, नर्गिसी प्यालों में
आजा खो जाएं…

कहना नहीं था कहना पड़ा है
प्यार का जादू सबसे बड़ा है
मेरा दिल ना आ जाये
इन प्यार की मदभरी चालों में
आजा खो जाएं…

Advertisements

छोटी उमर में लम्बे सफ़र में – Chhoti Umar Mein (Aakraman)


फ़िल्म/एल्बम: आक्रमण (1975)
संगीतकार: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
गीतकार: आनंद बक्षी
गायक/गायिका: किशोर कुमार


छोटी उमर में
लम्बे सफ़र में
यूं हमसफ़र थे
जेड़ा मुंह मोड़े
बेईमान होवे

अब गुस्से से काम न लेना
बेदर्दी का नाम न लेना
पर को ये इल्ज़ाम न लेना
हाय ऐसे दुःख में बैठे किसी का
जेड़ा दिल तोड़े
जेड़ा दिल तोड़े बेईमान होवे
छोटी उमर में…

ये बदमस्त हसीन नज़ारे
करते हैं हम तुमको इशारे
कहते हैं ले के नाम हमारे
मंदिर से पहले, अपने साथी का
जेड़ा संग छोड़े
जेड़ा संग छोड़े, बेईमान होवे
छोटी उमर में…

रोज़ शाम आती थी – Roz Shaam Aati Thi (Imtihan)


फ़िल्म/एल्बम: इम्तिहान (1974)
संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
गीतकार: मजरूह सुल्तानपुरी
गायक/गायिका: लता मंगेशकर


रोज़ शाम आती थी, मगर ऐसी न थी
रोज़ रोज़ घटा छाती थी, मगर ऐसी न थी
ये आज मेरी ज़िन्दगी में कौन आ गया
रोज़ शाम आती थी…

डाली में ये किसका हाथ, कर इशारे बुलाए मुझे
झूमती चंचल हवा, छू के तन गुदगुदाए मुझे
हौले-हौले, धीरे-धीरे कोई गीत मुझको सुनाए
प्रीत मन में जगाए, खुली आंख सपने दिखाए
ये आज मेरी ज़िन्दगी…

अरमानों का रंग है, जहां पलकें उठाती हूं मैं
हंस-हंस के है देखती, जो भी मूरत बनाती हूं मैं
जैसे कोई मोहे छेड़े, जिस ओर भी जाती हूं मैं
डगमगाती हूं मैं, दीवानी हुई जाती हूं मैं
ये आज मेरी ज़िन्दगी…

मैंने होठों से लगाई तो हंगामा हो गया – Hungama Ho Gaya (Anhonee)


फ़िल्म/एल्बम: अनहोनी (1973)
संगीतकार: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
गीतकार: वर्मा मलिक
गायक/गायिका: आशा भोंसले


हां हां जाम भी है, हां हां शाम भी है
अरे चोरी नहीं, सारा आम भी है
सबने पी है, मुझपे इल्ज़ाम क्यूं है
खाम-खां मेरा नाम बदनाम क्यूं है
देखो न लोगों ने, बोतलों की बोतलें
ख़त्म कर दी तो कुछ न हुआ
मगर मगर
मैंने होठों से लगाई तो, हंगामा हो गया
हंगामा हो गया, हंगामा, हंगामा हो गया
मुझे यार ने पिलाई तो, हंगामा हो गया…

दिन को कसमें खाते हैं, तौबा-तौबा करते हैं
शाम होती है तो फिर प्याले भरते हैं
रात को सब पीते हैं, सुबह को सब डरते हैं
क्या कशिश हैं, सब इसपे मरते हैं
कैसे ये लोग हैं, पता नहीं क्या करते हैं
कौन सी बात है इसमें, सब इसको अपनाते हैं
देखो ना, सबको तमाशा दिखाते हैं
गिरते हैं, लड़खड़ाते हैं, शोर मचाते हैं
उनको तो आप कुछ नहीं कहते
मगर मगर
मुझे हिचकी जो आई तो, हंगामा हो गया
हंगामा हो गया…

क्यूं घबरा गई, शर्मा गई, या गुस्सा खा गई
हाथ लगाने से इतना तिलमिला गए
अरे हुस्न वाले तो आग लगा देते हैं
फ़ना कर देते हैं, होश उड़ा देते हैं
दिल, जिगर, चैन, आराम, रातें
सुबह, दोपहर और शाम छीन ले जाते हैं
और आंख चुरा लेते हैं
सामने होते हैं और आप बोल नहीं पाते हैं
देखो ना दर्द, ठेस और ज़ख्म दे जाते हैं
पर आप कुछ नहीं कहते
मगर मगर
मैंने आंख जो मिलाई तो, हंगामा हो गया
हंगामा हो गया…

शोर मच गया शोर – Shor Mach Gaya Shor (Badla)


फ़िल्म/एल्बम: बदला (1974)
संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
गीतकार: आनंद बक्षी
गायक/गायिका: किशोर कुमार


एक दो तीन चार
राजू दादा के चेले होशियार

शोर मच गया शोर
हो देखो, आया माखन चोर
गोकुल की गलियों की ओर
चला निकला माखन चोर, नंदकिशोर
शोर मच गया शोर…

देखी जो ग्वालों की टोली, टोली
कोई गुजरिया बोली बोली
किसकी बारात है ये,
किसकी है डोली, डोली-डोली
जमुना के तट की ओर चला निकला
ओ चला चला चला
चला निकला माखन चोर, नंदकिशोर
शोर मच गया शोर…

ग्वालन के पीछे दौड़े, दौड़े
कंकर से मटकी फोड़े, फोड़े
मारे यशोदा मां, चोरी ना छोड़े, छोड़े-न छोड़े
देखे नजर की डोर
चला निकला माखन चोर, नन्दकिशोर
शोर मच गया शोर…

एक के ऊपर एक, एक
देख तमाशा देख, देख
तोड़ मटकी तोड़
और ऊंचा और, और
एक दो तीन चार
राजू बड़ा होशियार
गिर न जाना मेरे यार
एक के ऊपर एक…