जोश-ए-जवानी हाय रे हाय निकले जिधर से धूम मचाये – Josh-e-Jawani Haay Re Haay


फ़िल्म: अराउंड द वर्ल्ड / Around The World (1967)
गायक/गायिका: मुकेश
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: राज कपूर, राजश्री


जोश-ए-जवानी हाय रे हाय
निकले जिधर से धूम मचाये
दुनिया का मेला, मैं हूँ अकेला
कितना अकेला हूँ मैं
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

शाम का रंगीं शोख़ नज़ारा
और बेचारा ये दिल
ढूँध के हारा, कोई सहारा
पर न मिली मंज़िल
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

कोई तो हमसे दो बात करता
कोई तो कहता हलो
घर न बुलाता पर ये तो कहता
कुछ दूर तक संग चलो
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

बेकार गुज़रे हम इस तरफ़ से
बेकार था ये सफ़र
अब दर-ब-दर की खाते हैं ठोकर
राजा जो थे अपने घर
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

Advertisements

दिल लगाकर आपसे पछता रहे हैं जान-ए-मन – Dil Lagakar Aapse Pachhta Rahe Hain


फ़िल्म: अराउंड द वर्ल्ड / Around The World (1967)
गायक/गायिका: मुकेश
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: राज कपूर, राजश्री, अमीता


दिल लगाकर आपसे पछता रहे हैं जान-ए-मन
प्यार करने की सज़ा हम पा रहे हैं जान-ए-मन

आँख कुछ ऐसी लड़ी नौकरी करनी पड़ी
आ गए बातों में हम दिल में छूटी फुलझड़ी
हाय हम तो फँस गए घबरा रहे हैं जान-ए-मन
प्यार करने की…

दिल तो पहले दे दिया दिलबर अपने हो चुके
पास जो पूँजी बची हाय वो भी खो चुके – 2
हम तो अपने हाल पर शरमा रहे हैं जान-ए-मन
प्यार करने की…

चले जाना ज़रा ठहरो किसी का दम निकलता है – Chale Jana Zara Thehro


फ़िल्म: अराउंड द वर्ल्ड / Around The World (1967)
गायक/गायिका: मुकेश, शारदा
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: राज कपूर, राजश्री, अमीता


चले जाना ज़रा ठहरो किसी का दम निकलता है
ये मंज़र देखकर जाना
चले जाना ज़रा…

अभी आए हो बैठो तो ये मौसम भी सुहाना है
अभी तो हाल-ए-दिल तुमको निगाहों से सुनाना है
नज़र प्यासी ये दिल प्यासा
किसी का दम…

हसीं झरनों के साये में अकेला छोड़ जाते हो
हमारे दिल को आख़िर किसलिए तुम तोड़ जाते हो
ज़रा दम लो कहा मानो
किसी का दम…

हमारी जान हो तुम भी अगर चल दीं तो क्या होगा
तुम्हारे बिन बहारों में ख़ुशी क्या है मज़ा क्या है
ओ जान-ए-मन न जाओ तुम
किसी का दम…

क़सम खाती हूँ मैं अपनी तुम्हें अब ना सताऊँगी
तुम्हारी बात जो भी हो वही मैं मान जाऊँगी
भरी आँखें झुकी पलकें
किसी का दम…
चले जाना ज़रा…

अराउंड द वर्ल्ड – Full Movie and Songs of Around The World (1967)



फ़िल्म: अराउंड द वर्ल्ड / Around The World (1967)
गायक/गायिका: मुकेश, शारदा
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: राज कपूर, राजश्री, अमीता

चले जाना ज़रा ठहरो किसी का दम निकलता है
ये मंज़र देखकर जाना
चले जाना ज़रा…

अभी आए हो बैठो तो ये मौसम भी सुहाना है
अभी तो हाल-ए-दिल तुमको निगाहों से सुनाना है
नज़र प्यासी ये दिल प्यासा
किसी का दम…

हसीं झरनों के साये में अकेला छोड़ जाते हो
हमारे दिल को आख़िर किसलिए तुम तोड़ जाते हो
ज़रा दम लो कहा मानो
किसी का दम…

हमारी जान हो तुम भी अगर चल दीं तो क्या होगा
तुम्हारे बिन बहारों में ख़ुशी क्या है मज़ा क्या है
ओ जान-ए-मन न जाओ तुम
किसी का दम…

क़सम खाती हूँ मैं अपनी तुम्हें अब ना सताऊँगी
तुम्हारी बात जो भी हो वही मैं मान जाऊँगी
भरी आँखें झुकी पलकें
किसी का दम…
चले जाना ज़रा…


फ़िल्म: अराउंड द वर्ल्ड / Around The World (1967)
गायक/गायिका: मुकेश
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: राज कपूर, राजश्री, अमीता

दिल लगाकर आपसे पछता रहे हैं जान-ए-मन
प्यार करने की सज़ा हम पा रहे हैं जान-ए-मन

आँख कुछ ऐसी लड़ी नौकरी करनी पड़ी
आ गए बातों में हम दिल में छूटी फुलझड़ी
हाय हम तो फँस गए घबरा रहे हैं जान-ए-मन
प्यार करने की…

दिल तो पहले दे दिया दिलबर अपने हो चुके
पास जो पूँजी बची हाय वो भी खो चुके – 2
हम तो अपने हाल पर शरमा रहे हैं जान-ए-मन
प्यार करने की…


फ़िल्म: अराउंड द वर्ल्ड / Around The World (1967)
गायक/गायिका: मुकेश, शारदा
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: राज कपूर, राजश्री, अमीता

दुनिया की सैर कर लो – 2
इन्साँ के दोस्त बनकर इन्साँ से प्यार करलो
दुनिया की सैर…
अराउंड द वर्ल्ड इन एट डॉलर्स – 4

लॉस एंजेलिस भड़कीला जहाँ हॉलीवुड है रंगीला
देखो डिज्नीलैंड में आकर परियों का देश धरती पर
लॉस एंजेलिस…
दुनिया की सैर…
इन्साँ के दोस्त…

हम अमन चाहने वाले हम प्यार पे मरने वाले
इक बात कहेंगे सबसे नफ़रत को मिटा जग से
इन्सान के हाथ का टोना मिट्टी को बनाया सोना
ये वाशिंगटन अलबेला न्यूयॉर्क शहर का मेला
दुनिया की सैर…
इन्साँ के दोस्त…

लंदन की दौड़ दीवानी पेरिस की शाम मस्तानी
क़ुदरत के खेल निराले ज़रा देखले देखने वाले
बर्लिन का बदलता चेहरा और रोम का रंग सुनहरा
वेनिस में नावों की सैरें ये गीत गाती हुई लहरें
दुनिया की सैर…
इन्साँ के दोस्त ..


फ़िल्म: अराउंड द वर्ल्ड / Around The World (1967)
गायक/गायिका: मुकेश
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: राज कपूर, राजश्री

जोश-ए-जवानी हाय रे हाय
निकले जिधर से धूम मचाये
दुनिया का मेला, मैं हूँ अकेला
कितना अकेला हूँ मैं
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

शाम का रंगीं शोख़ नज़ारा
और बेचारा ये दिल
ढूँध के हारा, कोई सहारा
पर न मिली मंज़िल
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

कोई तो हमसे दो बात करता
कोई तो कहता हलो
घर न बुलाता पर ये तो कहता
कुछ दूर तक संग चलो
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

बेकार गुज़रे हम इस तरफ़ से
बेकार था ये सफ़र
अब दर-ब-दर की खाते हैं ठोकर
राजा जो थे अपने घर
जोश-ए-जवानी हाय रे हाय…

तुम्हारी भी जय-जय हमारी भी जय-जय – Tumhari Bhi Jai Jai Humari Bhi Jai Jai


फ़िल्म: दीवाना / Diwana (1967)
गायक/गायिका: मुकेश
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: सायरा बानो, राज कपूर


तुम्हारी भी जय-जय हमारी भी जय-जय
न तुम हारे न हम हारे
सफ़र साथ जितना था हो ही गया तय
न तुम हारे…

याद के फूल को हम तो अपने दिल से रहेंगे लगाए
और तुम भी हँस लेना जब ये दीवाना याद आए
मिलेंगे जो फिर से मिला दें सितारे
न तुम हारे…

वक़्त कहाँ रुकता है तो फिर तुम कैसे रुक जाते
आख़िर किसने चाँद को छुआ है हम क्यों हाथ बढ़ाते
जो उस पार हो तुम हम इस किनारे
न तुम हारे…

था तो बहुत कहने को लेकिन अब तो चुप बेहतर है
ये दुनिया है एक सराय जीवन एक सफ़र है
रुका भी है कोई किसी के पुकारे
न तुम हारे…