सजना साथ निभाना – Sajna Saath Nibhana (Doli)


फ़िल्म/एल्बम: डोली (1969)
संगीतकार: रवि
गीतकार: राजिंदर कृष्ण
गायक/गायिका: आशा भोंसले, मो.रफ़ी


सजना साथ निभाना, सजना साथ निभाना
साथी मेरी बहारों के राह में छोड़ न जाना
सजना साथ निभाना…

आ के चला जाए ज़माना जो बहार का
फूल मुरझाये ना तेरे-मेरे प्यार का
आज के वादे सजना
आज की बातें सजना
भूल न जाना
सजना साथ निभाना…

वैसे तो हजारों नज़ारे मेरी राह में
एक बस तू ही समाया है निगाहों में
प्यार की रस्में सजना
प्यार की कसमें सजना
भूल न जाना…

किसने साथ निभाया, किसने साथ निभाया
दिल को एक खिलौना समझा
खेला और ठुकराया
किसने साथ निभाया…

कहां के ये वादे, ये कसमें कहां की
कहां है वो दुनिया, ये बातें हैं जहां की
झूठी नगरी, झूठे जोगी
प्रीत भी सच्ची कैसे होगी
अच्छा ढोंग रचाया
किसने साथ निभाया…

Advertisements

सौ बरस की ज़िन्दगी से अच्छे हैं – Sau Baras Ki Zindagi Se (Sachchaai)


फ़िल्म/एल्बम: सच्चाई (1969)
संगीतकार: शंकर जयकिशन
गीतकार: राजिंदर कृषण
गायक/गायिका: आशा भोंसले, मो.रफ़ी


सौ बरस की ज़िन्दगी से अच्छे हैं
प्यार के दो चार दिन
ज़िन्दगी की हर ख़ुशी से अच्छे हैं
प्यार के दो चार दिन

प्यार ही से ये ज़मीं है, प्यार ही से आसमां
प्यार का लेकर सहारा, चल रहा है ये जहां
प्यार शबनम, प्यार शोला
प्यार ही बाद-ए-सबा
फूल कलियां चांद तारे
सब मोहब्बत के निशां
सौ बरस की ज़िन्दगी से…

ये मुहब्बत दो दिलों का, खूबसूरत राज़ है
दिल की धड़कन जिसकी सरगम, है यही वो ताज़ है
चाहे भंवरे का हो नगमा
या पपीहे की सदा
प्यार कहते हैं जिसे हम
एक ही आवाज़ है
सौ बरस की ज़िन्दगी से…

आओ तुम्हें मैं प्यार सिखा दूं – Aao Tumhein Main Pyar Sikha Doon (Upaasna)


फ़िल्म/एल्बम: उपासना (1971)
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: राजिंदर कृष्ण
गायक/गायिका: लता मंगेशकर, मो.रफ़ी


प्यार सिखा दूं, सिखला दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार सिखा दूं, सिखला दो ना
प्रेम नगर की डगर दिखा दूं, दिखला दो ना
दिल की धड़कन क्या होती है
ये अनजाना राज़ बता दूं, बतला दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार…

पहले धीरे से पलकों की तिलमन ज़रा गिरा लो
कैसे, ऐसे
अब अपने रुखसारों पर ये ज़ुल्फ़ ज़रा बिखरा लो
हूं ऐसे, हां ऐसे
देखो मुझको डर लागे, देखो मुझको डर लागे
जान क्या होगा आगे
सबर करो तो समझा दूं, समझा दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार…

छोड़ के बेगानापन अब तुम मेरे पास आ जाओ
आ गई, लो आ गई
भूल के सारी दुनिया, इन बाहों में खो जाओ
ना ना ना ना, ना बाबा ना
प्यार नहीं होता ऐसे, प्यार नहीं होता ऐसे
होता है फिर वो कैसे
ठहरो तुमको समझा दूं, समझा दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार…

फूल की खुशबू, पवन की सूरत कभी आंख से देखी
नहीं तो
तन तो देखा, मन की मूरत, कभी आंख से देखी
नहीं नहीं
प्यार नहीं कोई वासना, प्यार नहीं कोई वासना
ये तो एक उपासना
समझे? नहीं समझे?
आओ तुम्हें मैं समझा दूं…

किसको प्यार करूं – Kisko Pyar Karoon (Tumse Achcha Kaun Hai)


फ़िल्म/एल्बम: तुमसे अच्छा कौन है (1969)
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: राजेंद्र कृष्ण
गायक/गायिका: मो.रफ़ी


किस किस-किस
किसको प्यार करूं
कैसे प्यार करूं
तू भी है, ये भी है
वो भी है, हाय!
किसको प्यार करूं…

मेरे लिए तो हो गयी मुश्किल
कैसे बांटूं एक मेरा दिल
किसको प्यार करूं…

देखूं जिधर मैं, शोले ही शोले
दिल है आखिर, कैसे न डोले हाय
किसको प्यार करूं…

इक-इक सूरत, प्यार की मूरत
सबको लेकिन, मेरी ज़ुरूरत
किसको प्यार करूं…

ये खामोशियां ये तन्हाईयां – Ye Khamoshiyaan Ye Tanhaiyaan (Yeh Rastey Hain Pyar Ke)


फ़िल्म/एल्बम: ये रास्ते हैं प्यार के (1963)
संगीतकार: रवि
गीतकार: राजिंदर कृष्ण
गायक/गायिका: मो.रफ़ी, आशा भोंसले


ये खामोशियां, ये तन्हाईयां
मोहब्बत की दुनिया है कितनी जवां
ये खामोशियां, ये तन्हाईयां…

ये सर्दी का मौसम बदन कांपे थर-थर
ये है बर्फ का ढेर या संगमरमर
बना लें ना क्यों अपनी जन्नत यहां
ये खामोशियां, ये तन्हाईयां…

ये ऊंचे पहाड़ों के मगरूर साये
ये कहते हैं उनको नज़र तो मिलाए
फ़रिश्ते भी हैं इस जगह, बेज़ुबां
ये खामोशियां, ये तन्हाईयां…

न पर्दा है कोई, न है कोई चिलमन
जहां पांव रख दें, है फिसलन ही फिसलन
कदम छोड़ते जा रहे हैं निशां
ये खामोशियां, ये तन्हाईयां…