अमन का फ़रिश्ता कहाँ जा रहा है – Aman Ka Farishta Kahan Ja Raha Hai


फ़िल्म: अमन / Aman (1967)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: सायरा बानो, राजेंद्र कुमार, बलराज साहनी


अमन का फ़रिश्ता कहाँ जा रहा है
चमन रो रहा है मची है दुहाई – 2

किया काम ऐसा कि हलचल मचा दी
ये दुनिया जहन्नुम थी जन्नत बना दी
खिंची आ रही है सारी ख़ुदाई
चमन रो रहा…

बहुत देर जागा था सोया हुआ है
अमन के ख़्यालों में खोया हुआ है
ये कैसी मुहब्बत ये कैसी जुदाई
चमन रो रहा…

ये जीवन की मंज़िल पे छुटा है हमसे
कोईइ तो मनाओ ये रूठा है हमसे
नज़र मेरे बाबू को किसने लगाई
चमन रो रहा…

Advertisements

ऐ हुस्न-परी-चेहरा क्यों इतनी दर्दमंद हो – Aye Husn Pari Kyon Itni Dardmand Ho


फ़िल्म: अमन / Aman (1967)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: सायरा बानो, राजेंद्र कुमार, बलराज साहनी


ऐ हुस्न-परी-चेहरा क्यों इतनी दर्दमंद हो
दुनिया की मंज़िलों पर तुम ही मुझे पसंद हो

शबनम के दिल की धड़कन महसूस कर रही हो
तुम कितनी नर्म-दिल हो आहें सी भर रही हो
ऐ हुस्न-परी-चेहरा…

इतना ख़्याल कोई करता नहीं किसी का
तुमने बदल दिया है रुख़ मेरी ज़िन्दगी का
ऐ हुस्न-परी-चेहरा…

सब कुछ था पास मेरे लेकिन न ये ख़ुशी थी
पूरी हुई है तुमसे जीवन में जो कमी थी
ऐ हुस्न-परी-चेहरा…

अमन – Full Movie and Songs of Aman (1967)


फ़िल्म: अमन / Aman (1967)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, सायरा बानो
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: सायरा बानो, राजेंद्र कुमार, बलराज साहनी

(आज की रात ये कैसी रात कि हमको नींद नहीं आती
मेरी जाँ आओ बैठो पास कि हमको नींद नहीं आती) – 2
आज की रात…

हे ये आज तुम्हें क्या हो गया है
उफ़ तुम अपने दिल को समझाओ ना
मचल उठा ये दिल नादाँ बड़ा ज़िद्दी बड़ी मुश्किल – 2
ख़ुदा को भी मना लूँ मैं मगर माने ना रूठा दिल
तुम्हीं देखो करो कोई बात कि हमको नींद नहीं आती
मेरी जाँ आओ बैठो…

सुनो मेरी एक बात मानोगे
मानोगे ना
तुम्हें अंधेरे में नींद नहीं आती तो
तो लो मैं रोशनी किए देती हूँ
अंधेरा है तो रहने दो मुजस्सिम चाँदनी हो तुम – 2
न जाए रोशनी तुमसे कि ऐसी रोशनी हो तुम
न सीने से हटाओ हाथ कि हमको नींद नहीं आती
मेरी जाँ आओ बैठो…

मारूँगी हाँ


फ़िल्म: अमन / Aman (1967)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: सायरा बानो, राजेंद्र कुमार, बलराज साहनी

ऐ हुस्न-परी-चेहरा क्यों इतनी दर्दमंद हो
दुनिया की मंज़िलों पर तुम ही मुझे पसंद हो

शबनम के दिल की धड़कन महसूस कर रही हो
तुम कितनी नर्म-दिल हो आहें सी भर रही हो
ऐ हुस्न-परी-चेहरा…

इतना ख़्याल कोई करता नहीं किसी का
तुमने बदल दिया है रुख़ मेरी ज़िन्दगी का
ऐ हुस्न-परी-चेहरा…

सब कुछ था पास मेरे लेकिन न ये ख़ुशी थी
पूरी हुई है तुमसे जीवन में जो कमी थी
ऐ हुस्न-परी-चेहरा…


फ़िल्म: अमन / Aman (1967)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: सायरा बानो, राजेंद्र कुमार, बलराज साहनी

अमन का फ़रिश्ता कहाँ जा रहा है
चमन रो रहा है मची है दुहाई – 2

किया काम ऐसा कि हलचल मचा दी
ये दुनिया जहन्नुम थी जन्नत बना दी
खिंची आ रही है सारी ख़ुदाई
चमन रो रहा…

बहुत देर जागा था सोया हुआ है
अमन के ख़्यालों में खोया हुआ है
ये कैसी मुहब्बत ये कैसी जुदाई
चमन रो रहा…

ये जीवन की मंज़िल पे छुटा है हमसे
कोईइ तो मनाओ ये रूठा है हमसे
नज़र मेरे बाबू को किसने लगाई
चमन रो रहा…

इतना है तुमसे प्यार मुझे मेरे राज़दार – Itna Hai Tumse Pyar Mujhe Mere Raazdar (Suraj)


फ़िल्म: सूरज / Suraj (1966)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, सुमन कल्याणपुर
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: अजीत, राजेंद्र कुमार, वैजयन्तीमाला


इतना है तुमसे प्यार मुझे मेरे राज़दार
जितने के आस्मान पर तारे हैं बेशुमार

इत्नना है तुमसे प्यार मुझे मेरे राज़दार
जितने के इस ज़मीन पर ज़र्रे हैं बेशुमार

तेरे सिवा किसी को न लाया निगाह में
लाखों हसीन आये जवानी कि राह में
सदियों से कर रहा था तुम्हारा हि इंतज़ार
इतना है तुमसे…

मैंने भी तेरे वास्ते कितने जनम लिये
तब दिल के रास्तों पे जले प्यार के दिये
एक दिन ज़रूर पाउंगी इतना था ऐतबार
इतना है तुमसे…

बेख़ुद बना दिया मुझे तेरे सलाम ने
जन्नत अगर मिले तो न लूं तेरे सामने
ये प्यार वो नशा है के जिसका नहीं उतार
इतना है तुमसे…

एक बार आता है दिन ऐसा – Ek Baar Aata Hai Din Aisa (Suraj)


फ़िल्म: सूरज / Suraj (1966)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: अजीत, राजेंद्र कुमार, वैजयन्तीमाला


एक बार आती है रुत ऐसी रोज़ नहीं
के मुझको सम्भालो कोई मुझको होश नहीं

एक बार आती है रुत ऐसी रोज़ नहीं
वो दिल कोई दिल नहीं है जिसमें जोश नहीं

हो हो हो
ये तेरी नैन रेखा रेखा में ख़ुद को देखा
न पूछ दिल की हालत है दौर ये ख़ुशी का – 2
ओ झूम-झूम गाता है दिल ऐसा रोज़ नहीं
के मुझको सम्भालो…

हो हो हो
दिल मेरा डोले ये खाए हिचकोले
मैं हाय-हाय करूँ ये भेद सारा खोले – 2
हो नैनन बान चलाती है रुत ऐसी रोज़ नहीं
वो दिल कोई दिल…

हो ये दिल डगमगाए नज़र लड़खड़ाए
मैं गिर-गिर जाऊँ जब सामने तू आए – 2
हो दिल की बात बताता है दिल ऐसा रोज़ नहीं
के मुझको सम्भालो…
मुझको होश नहीं

हो प्यार भरी सैंया तू डाल गले बहियाँ
डाल दूँगी तुझ पर मैं पलकों की छैंया
हो दिल से दिल मिलाती है रुत ऐसी रोज़ नहीं
वो दिल कोई दिल…
एक बार आता है दिन ऐसा रोज़ नहीं
के मुझको सम्भालो कोई मुझको होश नहीं