दो नैन मिले दो फूल खिले – Do Nain Mile Do Phool Khile (Ghunghat)


फ़िल्म/एल्बम: घूंघट (1960)
संगीतकार: रवि
गीतकार: शकील बदायुनी
गायक/गायिका: आशा भोंसले, महेंद्र कपूर


दो नैन मिले, दो फूल खिले
दुनिया में बहार आई
एक रंग नया लायी, एक रंग नया लायी
दिल गाने लगा, लहराने लगा
ली प्यार ने अंगड़ाई
बजने लगी शहनाई, बजने लगी शहनाई
दो नैन मिले…

अरमान भरी नज़रों से बलम
इस तरह हमें देखा न करो
हो जाए ना रुसवा इश्क़ कहीं
दुनिया है बुरी, दुनिया से डरो
दुनिया का मुझे कुछ खौफ़ नहीं
दुनिया तो है हरजाई, और इश्क़ है सौदाई
दो नैन मिले…

ज़ुल्फों की घनी छांव में सनम
दम भर के लिए जीने दे मुझे
इस मस्त नज़र की तुझको कसम
आंखों से ज़रा पीने दे मुझे
पीना तो कोई दुश्वार नहीं
ओ प्यार के शहदायी, बहके तो है रुसवाई
दो नैन मिले…

Advertisements

सजना साथ निभाना – Sajna Saath Nibhana (Doli)


फ़िल्म/एल्बम: डोली (1969)
संगीतकार: रवि
गीतकार: राजिंदर कृष्ण
गायक/गायिका: आशा भोंसले, मो.रफ़ी


सजना साथ निभाना, सजना साथ निभाना
साथी मेरी बहारों के राह में छोड़ न जाना
सजना साथ निभाना…

आ के चला जाए ज़माना जो बहार का
फूल मुरझाये ना तेरे-मेरे प्यार का
आज के वादे सजना
आज की बातें सजना
भूल न जाना
सजना साथ निभाना…

वैसे तो हजारों नज़ारे मेरी राह में
एक बस तू ही समाया है निगाहों में
प्यार की रस्में सजना
प्यार की कसमें सजना
भूल न जाना…

किसने साथ निभाया, किसने साथ निभाया
दिल को एक खिलौना समझा
खेला और ठुकराया
किसने साथ निभाया…

कहां के ये वादे, ये कसमें कहां की
कहां है वो दुनिया, ये बातें हैं जहां की
झूठी नगरी, झूठे जोगी
प्रीत भी सच्ची कैसे होगी
अच्छा ढोंग रचाया
किसने साथ निभाया…

ये खामोशियां ये तन्हाईयां – Ye Khamoshiyaan Ye Tanhaiyaan (Yeh Rastey Hain Pyar Ke)


फ़िल्म/एल्बम: ये रास्ते हैं प्यार के (1963)
संगीतकार: रवि
गीतकार: राजिंदर कृष्ण
गायक/गायिका: मो.रफ़ी, आशा भोंसले


ये खामोशियां, ये तन्हाईयां
मोहब्बत की दुनिया है कितनी जवां
ये खामोशियां, ये तन्हाईयां…

ये सर्दी का मौसम बदन कांपे थर-थर
ये है बर्फ का ढेर या संगमरमर
बना लें ना क्यों अपनी जन्नत यहां
ये खामोशियां, ये तन्हाईयां…

ये ऊंचे पहाड़ों के मगरूर साये
ये कहते हैं उनको नज़र तो मिलाए
फ़रिश्ते भी हैं इस जगह, बेज़ुबां
ये खामोशियां, ये तन्हाईयां…

न पर्दा है कोई, न है कोई चिलमन
जहां पांव रख दें, है फिसलन ही फिसलन
कदम छोड़ते जा रहे हैं निशां
ये खामोशियां, ये तन्हाईयां…

हम भी अगर बच्चे होते – Hum Bhi Agar Bachche Hote (Door Ki Awaz)


फ़िल्म/एल्बम: दूर की आवाज़ (1964)
संगीतकार: रवि
गीतकार: शकील बदायुनी
गायक/गायिका: मो.रफ़ी, आशा भोंसले, मन्ना डे


हम भी अगर बच्चे होते
नाम हमारा होता गबलू-बबलू
खाने को मिलते लड्डू
और दुनिया कहती
हैप्पी बर्थडे टू यू
कोई लाता गुड़िया, मोटर, रेल
तो कोई लाता फिरकी, लट्टू
कोई चाबी का टट्टू
और दुनिया कहती
हैप्पी बर्थडे टू यू

कितनी प्यारी होती है ये भोली सी उमर
न नौकरी की चिन्ता, न रोटी की फिकर
नन्हें-मुन्ने होते हम तो देते सौ हुकम
पीछे-पीछे डैडी-मम्मी बन के नौकर
चॉकलेट, बिस्कुट, टॉफ़ी खाते और पीते दुद्दू
और दुनिया कहती
हैप्पी बर्थडे टू यू…

कैसे-कैसे नख़रे करते घरवालों से हम
पल में हंसते, पल में रोते, करते नाक में दम
अक्कड़-बक्कड़, लुक्का-छुप्पी, कभी छुआ-छू
करते दिन भर हल्ला-गुल्ला, दंगा और उधम
और कभी ज़िद पर अड़ जाते, जैसे अड़ियल टट्टू
और दुनिया कहती
हैप्पी बर्थडे टू यू…

अब तो ये है हाल के जब से बीता बचपन
मां से झगड़ा, बाप से टक्कर, बीवी से अनबन
कोल्हू के हम बैल बने हैं, धोबी के गद्धे
दुनिया भर के डण्डे सर पे खायें दनादन
बचपन अपना होता तो न करते ढेंचू-ढेंचू
और दुनिया कहती
हैप्पी बर्थडे टू यू…

तू हुस्न है मैं इश्क़ हूँ, तू मुझ में है मैं तुझ में हूँ – Tu Husn Hai Main Ishq Hoon (Hamraaz)


फ़िल्म: हमराज़ / Hamraaz (1967)
गायक/गायिका: आशा भोंसले, महेंद्र कपूर
संगीतकार: रवि
गीतकार: साहिर लुधियानवी
अदाकार: राज कुमार, सुनील दत्त, विम्मी


तू हुस्न है मैं इश्क़ हूँ, तू मुझ में है मैं तुझ में हूँ
मैं इसके आगे क्या कहूँ, तू मुझ में है मैं तुझ में हूँ

ओ सोनिये
ओ मेरे महिवाल
आजा ओय आजा
पार नदी के मेरे यार का डेरा
तेरे हवाले रब्बा दिल्बर मेरा
रात बला की बढ़ता जाए, लहरों का घेरा
कसम ख़ुदा की आज है मुश्किल मिलना मेरा
खैर करी रब्बा
साथ जियेंगे साथ मरेंगे यही है फ़साना

कहाँ सलीम का, रुतबा कहाँ अनारकली – 2
ये ऐसी शाख-ए-तमन्ना है, जो कभी न फली – 2
न बुझ सकेगी बुझाने से, अह्ल-ए-दुनिया के – 2
वो शमा जो तेरी आँखों में, मेरे दिल में जली – 2
हुज़ूर एक न एक दिन ये बात आएगी – 2
के तख़्त-ओ-ताज भले हैं के एक कनीज़ भली – 2
मैं तख़्त-ओ-ताज को ठुकरा के तुझको ले लूँगा – 2
के तख़्त-ओ-ताज से तेरी गली की ख़ाक़ भली – 2
साथ जियेंगे साथ मरेंगे यही है फ़साना – 2