नैनों में निंदिया है – Nainon Mein Nindiya Hai (Joroo Ka Ghulam)


फ़िल्म/एल्बम: जोरू का गुलाम (1972)
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: आनंद बक्षी
गायक/गायिका: लता मंगेशकर, किशोर कुमार


हां तो, नैनों में, निंदिया है
माथे पे, बिंदिया है
तो बालों में, गजरा है
आंखों में, कजरा है
ओह ओ
फिर कौन सी जगह है खाली, ओ मतवाली
मैं कहां रहूंगा, ओ बोलो कहां रहूंगा
ओ नैनों में निंदिया है…

तेरी गलियों का, मैं हूं एक बंजारा
तेरे बिन दुनिया में, मेरा कौन सहारा
मेरी कब मर्ज़ी है, हममें हो ये दूरी
मैं तो जां भी दे दूं, लेकिन है मजबूरी
पांव में, पायल है
हाथों में, आंचल है
ज़ुल्फों में, खुशबू है
पलकों में, जादू है
फिर कौन सी जगह है खाली…

सीखे कोई तुमसे, झूठी बात बनाना
देखो दिल न तोड़ो, करके साफ़ बहाना
ऐसे सपनों का, कोई महल बनाओ
मेरे बेघर प्रेमी, मैं तुमको कहां बसाऊं
सीने में, धड़कन है
बाहों में, कंगन है
कानों में, बाली है
होठों पे, लाली है
फिर कौन सी जगह है खाली
ओ मतवाली
मैं कहां रहूंगा
ओ बोलो-बोलो कहां रहूंगा
बस एक ही जगह है खाली
ये दिल वाली
तुम यहां रहोगे, अच्छा
तुम यहां रहोगे, अच्छा जी
तुम यहां रहोगे, ओके
तुम यहां रहोगे, Thank You

Advertisements

आओ तुम्हें मैं प्यार सिखा दूं – Aao Tumhein Main Pyar Sikha Doon (Upaasna)


फ़िल्म/एल्बम: उपासना (1971)
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: राजिंदर कृष्ण
गायक/गायिका: लता मंगेशकर, मो.रफ़ी


प्यार सिखा दूं, सिखला दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार सिखा दूं, सिखला दो ना
प्रेम नगर की डगर दिखा दूं, दिखला दो ना
दिल की धड़कन क्या होती है
ये अनजाना राज़ बता दूं, बतला दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार…

पहले धीरे से पलकों की तिलमन ज़रा गिरा लो
कैसे, ऐसे
अब अपने रुखसारों पर ये ज़ुल्फ़ ज़रा बिखरा लो
हूं ऐसे, हां ऐसे
देखो मुझको डर लागे, देखो मुझको डर लागे
जान क्या होगा आगे
सबर करो तो समझा दूं, समझा दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार…

छोड़ के बेगानापन अब तुम मेरे पास आ जाओ
आ गई, लो आ गई
भूल के सारी दुनिया, इन बाहों में खो जाओ
ना ना ना ना, ना बाबा ना
प्यार नहीं होता ऐसे, प्यार नहीं होता ऐसे
होता है फिर वो कैसे
ठहरो तुमको समझा दूं, समझा दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार…

फूल की खुशबू, पवन की सूरत कभी आंख से देखी
नहीं तो
तन तो देखा, मन की मूरत, कभी आंख से देखी
नहीं नहीं
प्यार नहीं कोई वासना, प्यार नहीं कोई वासना
ये तो एक उपासना
समझे? नहीं समझे?
आओ तुम्हें मैं समझा दूं…

जो तुम हंसोगे तो दुनिया – Jo Tum Hansoge To Duniya (Kathputli)


फ़िल्म/एल्बम: कठपुतली (1971)
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: वर्मा मलिक
गायक/गायिका: किशोर कुमार


जो तुम हंसोगे तो दुनिया हंसेगी
रोओगे तुम तो ना रोएगी दुनिया
तेरे आंसुओं को समझ ना सकेगी
तेरे आंसुओं पे हंसेगी ये दुनिया

सूरज की किरणों ने जग में किया सवेरा
दीपक जो हंसने लगा तो हो गया दूर अंधेरा
जगमगाते रहो, गुनगुनाते रहो
ज़िन्दगी में सदा मुस्कराते रहो
जो तुम हंसोगे तो दुनिया…

कली हंसी तो फूल खिला, फूल से हंसे नज़ारे
लेकर हंसी नज़ारों की, हंस दिए चांद-सितारे
तुम सितारों की तरह, तुम नज़ारों की तरह
ज़िन्दगी में सदा मुस्कराते रहो
जो तुम हंसोगे तो दुनिया…

तुम मिले प्यार से – Tum Mile Pyar Se (Apradh)


फ़िल्म/एल्बम: अपराध (1972)
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: इन्दीवर
गायक/गायिका: किशोर कुमार, आशा भोंसले


तुम मिले प्यार से
मुझे जीना गंवारा हुआ
तुम हुए जो मेरे
मेरा सब कुछ तुम्हारा हुआ

ज़िन्दगी जोड़ दी, मैंने तेरी ज़िन्दगी से
हम छुपाते रहे, था प्यार हमको तुझी से
जीवन संवारा, तूने हमारा
तूने हमारा, जीवन संवारा
दुनिया से प्यारा, तू हमें
तुम मिले प्यार से…

तेरे साथी हैं हम, हर बात में साथ देंगे
ये किनारें है क्या, तूफां में संग-संग चलेंगे
ये जग सारा, तुझपे वारा
तुझपे वारा, ये जग सारा
प्यार से प्यारा, तू हमें
तुम मिले प्यार से…

बोल मेरे साथिया – Bol Mere Sathiya (Lalkaar)


फ़िल्म/एल्बम: ललकार (1972)
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: हसरत जयपुरी
गायक/गायिका: मो.रफ़ी, लता मंगेशकर


साथिया रे, साथिया रे

बोल मेरे साथिया
कितना मुझसे प्यार है
बोल मेरे साथिया…
जितनी सागर की गहराई
जितनी अम्बर की ऊंचाई
इतना तुमसे प्यार है
बोल मेरे साथिया…

ये बरखा जब छेड़े
इन बूंदों के साज़ को
मेरा दिल तब तरसे
तेरी ही आवाज़ को
जब-जब कोयल गीत सुनाए
भंवरा गुन-गुन गाए, हम्म
तब तुम समझो, तब तुम जानो
मेरी ही पुकार है
बोल मेरे साथिया…

रंग डाला ये जीवन
हमने तेरे प्यार में
ये तन-मन तेरा है
तू है दिल के तार में
सदियां बीती तुम पर मरते
नाम तुम्हारा जपते
मौसम बदले, हम ना बदले
ये अपना इक़रार है
बोल मेरे साथिया…