हमको प्यार है, तो ये ख़ुमार है – Hum Ko Pyar Hai O Mehbooba (Moksha)


फ़िल्म: मोक्ष (2001)
संगीतकार: राजेश रोशन
गीतकार: जावेद अख्तर
गायक/गायिका: कमाल खान, स्नेहा पंत


भंवरे जो गुनगुनाये, झोंके जो सनसनाये
क्यों जिस्म थरथराये, कोई बताये मुझको
हमको प्यार है, तो ये ख़ुमार है
हमको प्यार है, ओ महबूबा

सोने की अब ज़मीन है, नीलम का आसमां
पंछी सुना रहे हैं सुरीली कहानियां
डाली पे ओस में जो कली कोई धुल गयी
एक अजनबी-सी खुशबू है सांसों में घुल गयी
महकी हुई फ़िज़ा है, गाती हुई हवा है
सब क्या ये हो रहा है, कोई बताये मुझको
हमको प्यार है, तो ये बहार है
हमको प्यार है, ओ महबूबा

फूलों की चुनरी ओढ़े हुए है ये वादियां
लगता है जैसे आंखों में ख़्वाबों का है समां
इन वादियों में प्यार के राही जो आये हैं
पेड़ों ने अपने रेशमी साये बिछाए हैं
गूंजी है रागिनी-सी, दिन में है चांदनी-सी
कैसी है शांति-सी, कोई बताये मुझको
हमको प्यार है, तो ये निखार है
हमको प्यार है, ओ महबूबा
भंवरे जो गुनगुनाये…

Advertisements

दिल मेरा दिल है अकेला – Dil Mera Dil Hai Akela (Love Ke Liye Kuchh Bhi Karega)


फ़िल्म: लव के लिए कुछ भी करेगा (2001)
संगीतकार: विशाल भारद्वाज
गीतकार: अब्बास टायरवाला
गायक/गायिका: उदित नारायण


दिल मेरा दिल है अकेला
ढूंढे रे ढूंढे रे लैला
अंजू की आंखों में, पारो की पलकों में
नेहा के नखरे में, नीना के नक़्शे में
गीता के गालों में, बॉबी के बालों में
शालू की हाय गलियों में
दिल मेरा दिल है…

पूजा के पैरों की पूजा करूं
दिल बोले काम ना दूजा करूं
राधा की रौनक से रैना सजे
तो अपने आप ही बंसी बजे
ज्योति की लौ में जलूं
चंचल के संग चलूं
अंजू की आंखों में…

ढूंढूं अनामिका के नाम को
परवाना शमा का हूं शाम को
रूबी की पहनूं अंगूठी में
बातें नहीं करता हूं झूठी मैं
सपना के सपने बुनूं
सीमा में सीमित रहूं
अंजू की आंखों में…

पा लिया है प्यार तेरा अब नहीं खोना – Paa Liya Hai Pyar Tera (Kyo Kii… Main Jhuth Nahin Bolta)


फ़िल्म: क्योंकि मैं झूठ नहीं बोलता (2001)
संगीतकार: आनंद राज आनंद
गीतकार: देव कोहली
गायक/गायिका: अल्का याग्निक, उदित नारायण


पा लिया है प्यार तेरा अब नहीं खोना
ओ मेरे सोना, तुम मेरे हो ना
पा लिया है प्यार तेरा अब नहीं खोना
ओ मेरी सोना, तुम मेरी हो ना

बड़ी हसरतों से तुझे देखती हूं
तेरे दिल में अपनी जगह ढूंढती हूं
मेरा प्यार तुझसे सदा ये कहेगा
मेरा दिल है तेरा, तेरा ही रहेगा
अच्छा लगता है जानू, फिर से कहो ना
ओ मेरे सोना…

दीवानी हूं तेरी, तू अपना बना ले
इन आंखों में मेरा, सपना सजा ले
मैं तय कर चुका हूं, तुझे ही चुनूंगा
कसम है तेरी, तेरा दूल्हा बनूंगा
कब ले के आओगे बारात ये कहो ना
ओ मेरे सोना…

शावा शावा रूप है तेरा सोणा सोणा – Say Shava Shava (Kabhi Khushi Kabhi Gham)


फ़िल्म: कभी ख़ुशी कभी ग़म (2001)
संगीतकार: आदेश श्रीवास्तव
गीतकार: समीर
गायक/गायिका: अमिताभ बच्चन, सुदेश भोंसले, सुनिधि चौहान, उदित नारायण, आदेश श्रीवास्तव, अल्का याग्निक, अमित कुमार


से शावा शावा…
रूप है तेरा सोणा सोणा
सोणी तेरी पायल
छन छना छन ऐसे छनके
कर दे सबको घायल
कह रहा आंखों का काजल
इश्क़ में जीना मरना
एव्रीबॉडी से शावा शावा माहिया
से शावा शावा…

रूप है मेरा सोणा सोणा
सोणी मेरी पायल
छन छना छन ऐसे छनके
कर दे सबको घायल
कह रहा आंखों का काजल
इश्क़ में जीना मरना
एव्रीबॉडी से शावा शावा माहिया
से शावा शावा…

माहिया वे आजा माही
माहिया वे आजा…

आजा गोरी नच ले, हे शावा
नच ले वे नच ले, हे शावा
आजा गोरी नच ले…

देखा तैनूं पहली-पहली बार वे
होने लगा दिल बेक़रार वे
रब्बा मैनूं की हो गया, दिल जाणिये
हाय मैनूं की हो गया
सुन के तेरी बातें सोणे यार वे
माही मैनूं तेरे नाल प्यार वे
हाय मैं मर जावां दिल जाणिये
हाय मैं मर जावां
से शावा शावा माहिया…
ते शावा शावा भंगड़ा…

इन क़दमों में सांसें वार दे
रब से ज़्यादा तुझे प्यार दे
रब मैनूं माफ़ करे, रब्बा खैरिया
हाय मैनूं माफ़ करे
तुम तो मेरी जिन्द मेरी जान वे
मेरी तू जमीं है, आसमान वे
तुझ बिन मैं की करां, रब्बा खैरिया
हाय वे मैं की करां
से शावा शावा माहिया…
रूप है तेरा सोणा…

ऐ मेरे सोये हुए प्यार – Aye Mere Soye Hue Pyar (Paayal Ki Jhankar)


फ़िल्म: पायल की झंकार (1968)
संगीतकार: सी.रामचन्द्र
गीतकार: राजिंदर कृष्ण
गायक/गायिका: आशा भोंसले, किशोर कुमार


आज अंधेरे को मिटाना होगा
एक नया दीप जलाना होगा
आज कुछ भूली हुई यादों को
अपनी पायल से जगाना होगा

ऐ मेरे सोये हुए प्यार ज़रा होश में आ
हो चुकी नींद बहुत जाग ज़रा जोश में आ
ज़रा होश में आ, होश में आ, होश में आ
ऐ मेरे सोये हुए…

क्या हुई तेरी हंसी, क्या हुई तेरी अदा
तेरी महफ़िल का समां, कभी ऐसा तो न था
फिर वही धूम मचा, फिर वो ही अन्दाज़ दिखा
हो चुकी नींद बहुत…

ये उदासी तो ना थी, तेरे आंखों में कभी
गीत गाने के है दिन, तो तुझे चुप है लगी
अपने होंठों पे ज़रा, प्यार के गीतों को भी ला
हो चुकी नींद बहुत…

वास्ता प्यार का दूं, देख ले एक नज़र
या मुझे इतना बता, मेरी मंज़िल है किधर
तेरी दुनिया है जहां, मेरी दुनिया भी वहां
छोड़ कर दर ये तेरा, और जाऊंगी कहां
या तो खुद होश में आ, या मुझे बेहोश बना
हो चुकी नींद बहुत…