जूबी डूबी जूबी डूबी पम्पारा – Jubi Dubi Jubi Dubi Pampara (3 Idiots)


फिल्म: 3 ईडियट्स (2009)
गायक: श्रेया घोषाल, सोनू निगम
गीत: स्वानंद किरकिरे
संगीत: शांतनु मोइत्रा


गुनगुनाती है ये हवाएं, गुनगुनाता है गगन
गा रहा है यह सारा आलम, जूबी डूबी परम्पम
(जूबी डूबी जूबी डूबी पम्पारा जूबी डूबी परम्पम
जूबी डूबी जूबी डूबी नाचे क्यूं पागल स्टुपिड माइंड) – (2)

शाखों पे पत्ते गा रहे हैं, फूलों पे भंवरे गा रहे
दीवानी किरणें गा रही हैं, यं पंछी गा रहे
बगिया में दो फूलों की हो रही है गुफ्तगू
जैसा फिल्मों में होता है हो रहा है हुबहू
आयी आयी आयी…
(जूबी डूबी जूबी डूबी पम्पारा जूबी डूबी परम्पम
जूबी डूबी जूबी डूबी नाचे क्यूं पागल स्टुपिड माइंडन ) – (2 )

हां… रिमझिम रिमझिम रिमझिम सन सन सन सन हवा
टिप टिप टिप टिप बुंदे गुर्राती बिजलियां
भीगी भीगी साड़ी में यूं ठुमके लगाती तू
जैसा फिल्मों में होता है हो रहा है हुबहू
आयी आयी आयी…
(जूबी डूबी जूबी डूबी पम्पारा जूबी डूबी परम्पम
जूबी डूबी जूबी डूबी नाचे क्यूं पागल स्टुपिड माइंडन ) – (2 )

अम्बर का चांद जमीं पर इतराके गा रहा
इक टिम टिम टूटा तारा इठलाके गा रहा
हैं रातें अकेली तनहा मुझे छू ले आके तू
जैसा फिल्मों में होता है हो रहा है हुबहू

(जूबी डूबी जूबी डूबी पम्पारा जूबी डूबी परम्पम
जूबी डूबी जूबी डूबी नाचे क्यूं पागल स्टूपिड माइंड) – (2 )
जूबी डूबी डूबी ओ डूबी पागल स्टूपिड माइंड पमपरारा
जूबी डूबी जूबी डूबी पमपारा पागल स्टूपिड माइंड

Advertisements

बहती हवा सा था वो, उड़ती पतंग सा था वो – Behti Hawa Sa tha Woh (3 Idiots)


फिल्म: 3 ईडियट्स (2009)
गायक: शान, शांतनु मोइत्रा
गीत: स्वानंद किरकिरे
संगीत: शांतनु मोइत्रा


(बहती हवा सा था वो, उड़ती पतंग सा था वो
कहां गया उसे ढूंढो) – 2

हमको तो राहें थी चलाती
वो खुद अपनी राह बनाता
गिरता संभालता मस्ती में चलता था वो
हमको कल की फिकर सताती,
वो बस आज का जश्न मनाता
हर लम्हे को खुलके जीता था वो
कहां से आया था वो,
छूके हमारे दिल को
कहां गया उसे ढूंढो

सुलगती धुप में छांव के जैसा
रेगिस्तान में गांवे के जैसा
माइंड के घांव पे मरहम जैसा वो
हम सहमे से रहते कुए में
वो नदिया में गोते लगाता
उलटी धारा चीर के तैरता था वो
बादल आवारा था वो,
प्यार हमारा था वो
कहां गया उसे ढूंढो
हमको तो राहें थी चलाती,
वो खुद अपनी राह बनाता
गिरता संभालता मस्ती में चलता था वो
हमको कल की फिकर सताती,
वो बस आज का जश्न मनाता
हर लम्हे को खुलके जीता था वो
कहां से आया था वो,
छूके हमारे दिल को
कहां गया उसे ढूंढो

शुकरान अल्लाह – Shukran Allah (Kurbaan)

Film/Album: कुर्बान(2009)
Music: सलीम-सुलेमान
Lyrics: निरंजन इयेंगर
Singer(s): सोनू निगम, श्रेया घोषाल, सलीम मर्चंट



शुकरान अल्लाह वल्हम दुलिलाह

नज़रों से नज़रें मिली तो
जन्नत सी महकी फिजायें
लब ने जो लब छू लिया तो
आसमान से बरसी दुआएं
ऐसी अपनी मोहब्बत
ऐसी रूह-ए-इबादत
हम पे मेहरबान दो जहाँ

तेरी बाहों में ये जिस्म खिल गया
तेरी साँसों में चैन मिल गया
कैसे रहे अब हम जुदा
तेरी पास हम इतने हुए
तेरे ख्वाब अपने हुए
ऐसे हुए अब हम फ़िदा
ऐसी उसकी इनायत
मिट गयी हर शिकायात
हम पे मेहरबान दो जहाँ

तेरे साये में मिली हर ख़ुशी
तेरी मर्ज़ी मेरी ज़िन्दगी
ले चल तू चाहे जहां
मेरी आँखों में नज़र तेरी है
मेरी शाम-ओ-सहर तेरी है
तू जो नहीं तो मैं कहाँ
खिल गई मेरी किस्मत
पा के तेरी ये चाहत
हम पे मेहरबान दो जहाँ

जय हो – Jai Ho (Slumdog Millionaire)

Film/Album: स्लमडॉग मिलिनेयर (2009)
Music: ए.आर.रहमान
Lyrics: गुलज़ार
Singer(s): ए.आर.रहमान, सुखविंदर सिंह, तन्वी शाह, महालक्ष्मी अय्यर



जय हो
आजा आजा जींद शामियाने के तले
आजा ज़री वाले नीले आसमान के तले
जय हो

रत्ती रत्ती सच्ची मैंने जान गंवाई है
नच-नच कोयलों पे रात बिताई है
अंखियों की नींद मैंने फूंकों से उड़ा दी
गिन गिन तारे मैंने ऊंगली जलाई है

चख ले हां चख ले ये रात शहद है
चख ले रख ले
दिल है दिल आखरी हद है
रख ले काला काला काजल तेरा
कोई काला जादू है ना

कब से हां कब से जो लब पे रुकी है
कह दे कह दे हां कह दे
अब आंख झुकी है
ऐसी ऐसी रोशन आंखें
रोशन दोनों हीरे हैं क्या

जय हो
आजा आजा जींद शामियाने के तले
आजा ज़री वाले नीले आसमान के तले
जय हो

ऐ मसाकली – Aye Masakali (Delhi 6)

Film/Album: दिल्ली 6 (2009)
Music: ए आर रहमान
Lyrics: प्रसून जोशी
Singer(s): मोहित चौहान




ऐ मसाकली मसाकली
उड़ मटक कली मटक कली

ज़रा पंख झटक गई
धूल अटक और लचक मचक के दूर भटक
उड़ डगर-डगर कसबे कुचे नुक्कड़ बस्ती
में ये ये ये
इतड़ी से मुड़ अदा से उड़
कर ले पूरी दिल की तमन्ना
हवा से जुड़ अदा से उड़
फुर्र फुर्र फुर्र फुर्र
तू है हिरा पन्ना रे

घर तेरा सलोनी
बादल की कॉलोनी
दिखला दे ठेंगा इन सबको जो उड़ना ना जाने
उड़ियो ना डरियो
कर मनमानी मनमानी मनमानी
बढ़ियो ना मुड़ियो कर नादानी
तन तान ले मुस्कान ले
कह सना नाना नाना हवा
बस ठान ले तू जान ले
कह सना नाना न न न हवा

तुझे क्या गम तेरा रिश्ता
गगन की बांसुरी से है
पवन की गुफ्तगू से है
सूरज की रोशनी से है
उड़ियो ना डरियो
कर मनमानी मनमानी मनमानी
बढ़ियो ना मुड़ियो कर नादानी
तन तान ले मुस्कान ले
कह सना नाना नाना हवा
बस ठान ले तू जान ले
कह सना नाना न न न हवा