उलझन सुलझे ना, रस्ता सूझे ना – Uljhan Suljhe Na (Dhundh)


फ़िल्म: धुन्द (1973)
संगीतकार: रवि
गीतकार: साहिर लुधियानवी
गायक/गायिका: आशा भोंसले


उलझन सुलझे ना, रस्ता सूझे ना
जाऊं कहां मैं, जाऊं कहां
उलझन सुलझे ना…

मेरे दिल का अंधेरा, हुआ और घनेरा
कुछ समझ न पाऊं, क्या होना है मेरा
खड़ी दो राहे पर, ये पूछूं घबरा कर
जाऊं कहां मैं, जाऊं कहां
उलझन सुलझे ना…

जो सांस भी आए, तन चीर के जाए
इस हाल से कोई, किस तरह निभाए
न मरना रास आया, न जीना मन भाया
जाऊं कहां मैं, जाऊं कहां
उलझन सुलझे ना…

रुत ग़म की गले ना, कोई आस फले ना
तक़दीर के आगे, मेरी पेश चले ना
बहुत की तदबीरें, न टूटी ज़ंजीरें
जाऊं कहां मैं, जाऊं कहां
उलझन सुलझे ना…

Advertisements

मैंने होठों से लगाई तो हंगामा हो गया – Hungama Ho Gaya (Anhonee)


फ़िल्म/एल्बम: अनहोनी (1973)
संगीतकार: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
गीतकार: वर्मा मलिक
गायक/गायिका: आशा भोंसले


हां हां जाम भी है, हां हां शाम भी है
अरे चोरी नहीं, सारा आम भी है
सबने पी है, मुझपे इल्ज़ाम क्यूं है
खाम-खां मेरा नाम बदनाम क्यूं है
देखो न लोगों ने, बोतलों की बोतलें
ख़त्म कर दी तो कुछ न हुआ
मगर मगर
मैंने होठों से लगाई तो, हंगामा हो गया
हंगामा हो गया, हंगामा, हंगामा हो गया
मुझे यार ने पिलाई तो, हंगामा हो गया…

दिन को कसमें खाते हैं, तौबा-तौबा करते हैं
शाम होती है तो फिर प्याले भरते हैं
रात को सब पीते हैं, सुबह को सब डरते हैं
क्या कशिश हैं, सब इसपे मरते हैं
कैसे ये लोग हैं, पता नहीं क्या करते हैं
कौन सी बात है इसमें, सब इसको अपनाते हैं
देखो ना, सबको तमाशा दिखाते हैं
गिरते हैं, लड़खड़ाते हैं, शोर मचाते हैं
उनको तो आप कुछ नहीं कहते
मगर मगर
मुझे हिचकी जो आई तो, हंगामा हो गया
हंगामा हो गया…

क्यूं घबरा गई, शर्मा गई, या गुस्सा खा गई
हाथ लगाने से इतना तिलमिला गए
अरे हुस्न वाले तो आग लगा देते हैं
फ़ना कर देते हैं, होश उड़ा देते हैं
दिल, जिगर, चैन, आराम, रातें
सुबह, दोपहर और शाम छीन ले जाते हैं
और आंख चुरा लेते हैं
सामने होते हैं और आप बोल नहीं पाते हैं
देखो ना दर्द, ठेस और ज़ख्म दे जाते हैं
पर आप कुछ नहीं कहते
मगर मगर
मैंने आंख जो मिलाई तो, हंगामा हो गया
हंगामा हो गया…

मेरी सोनी मेरी तमन्ना – Meri Soni Meri Tamanna


फिल्मः यादों की बारात (1973)
गायक/गायिकाः आशा भोंसले, किशोर कुमार
संगीतकारः आर. डी. बर्मन
गीतकारः मज़रूह सुल्तानपुरी
कलाकारः धर्मेंद्र, विजय अरोड़ा, ज़ीनत अमान


मेरी सोनी मेरी तमन्ना
झूठ नहीं है मेरा प्यार
दीवाने से हो गई ग़लती जाने दो यार
आई लव यू, आई लव यू

मेरी सोनी मेरी तमन्ना
झूठ नहीं है मेरा प्यार
दीवाने से हो गई ग़लती जाने दो यार
आई लव यू, आई लव यू

आके मेरी आँखों में तुम देखो
इन में हर इक अद तुम्हारी है
कहने को ये दिल है मेरा लेकिन
धड़कन में सदा तुम्हारी है
तुम से है चैन मेरा तुम से है मेरा क़रार
ला ला ला आई लव यू, आई लव यू

मेरे सोना मेरी तमन्ना
झूठ नहीं है मेरा प्यार
दीवानी से हो गई ग़लती जाने दो यार
आई लव यू, आई लव यू

तड़पती हूँ बहुत ना तड़पाओ
अच्छा बाबा चलो हम ही हारे
तुम ने अगर दिल से मुझे चाहा
तुम भी तो हो सनम मुझे प्यारे
मेरे क़रीब आओ ज़रा सुन भी लो दिल की पुकार
ला ला ला आई लव यू, आई लव यू

लेकर हम दीवाना दिल – Lekar Hum Deewana Dil (Yaadon Ki Baraat)


फिल्मः यादों की बारात (1973)
गायक/गायिकाः आशा भोंसले, किशोर कुमार
संगीतकारः आर. डी. बर्मन
गीतकारः मज़रूह सुल्तानपुरी
कलाकारः धर्मेंद्र, विजय अरोड़ा, ज़ीनत अमान


लेकर हम दीवाना दिल
फिरते हैं मंज़िल मंज़िल
कहीं तो प्यारे किसी किनारे
मिल जाओ तुम अंधेरे उजाले
तरम पम
लेकर हम दीवाना दिल
फिरते हैं मंज़िल मंज़िल

जिस गली में तुम उस गली में हम
फिर भी ये दूरियाँ यहाँ
तुम यहीं कहीं हम यहीं कहीं
पर ये मजबूरियाँ यहाँ
वाह रे दुनिया दुनिया तेरे जलवे हैं निराले
ह आ
लेकर हम दीवाना दिल
फिरते हैं मंज़िल मंज़िल

तू कहीं रहे यूँ लगे मुझे
मेरे दिल के पास है यहाँ
माँगूं तेरी ख़ैर आ तेरे बग़ैर
दिल मेरा उदास है यहाँ
आजा आजा आजा हमको सीने से लगा ले
लेकर हम दीवाना दिल
फिरते हैं मंज़िल मंज़िल

चुरा लिया है तुमने जो दिल को – Chura Liya Hai Tumne


फिल्मः यादों की बारात (1973)
गायक/गायिकाः आशा भोंसले, मोहम्मद रफ़ी
संगीतकारः आर. डी. बर्मन
गीतकारः मज़रूह सुल्तानपुरी
कलाकारः धर्मेंद्र, विजय अरोड़ा, ज़ीनत अमान


चुरा लिया है तुमने जो दिल को
नज़र नहीं चुराना सनम
बदल के मेरी तुम ज़िंदगानी
कहीं बदल न जाना सनम

ले लिया दिल, हाय मेरा दिल
हाय दिल लेकर मुझको ना बहलाना
चुरा लिया… चुरा लिया है …

बहार बन के आऊँ कभी तुम्हारी दुनिया में
गुज़र न जाएं ये दिन कहीं इसी तमन्ना में
तुम मेरे हो, हाँ तुम मेरे हो
आज तुम इतना वादा करते जाना
चुरा लिया … चुरा लिया है …

सजाऊँगा लुट कर भी तेरे बदन की डोली को
लहू जिगर का दूँगा हंसीं लबों की लाली को
है वफ़ा क्या, इस जहाँ को
एक दिन दिखला दूँगा मैं दीवाना
चुरा लिया… चुरा लिया है …

ले लिया दिल, हाय मेरा दिल
हाय दिल लेकर मुझको ना बहलाना
चुरा लिया… चुरा लिया है …