दिल की किताब कोरी है – Dil Ki Kitaab Kori Hai (Yaar Mera)


फ़िल्म/एल्बम: यार मेरा (1971)
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
गायक/गायिका: सुमन कल्याणपुर, मो.रफ़ी


ओ दिल की किताब कोरी है, कोरी ही रहने दो
हाय जो अब तक छोरी है, छोरी ही रहने दो
दिल को चुराना चोरी है, चोरी ही रहने दो
गर ये जोरा जोरी है, जोरी ही रहने दो

चंदा को लगे ग्रहण, सूरज को लगे ग्रहण
चंदा को लगे, सूरज को लगे
लगने दो, लगे ग्रहण
होय प्यार की चांदनी गोरी है, गोरी ही रहने दो
ओ दिल की किताब कोरी है…

जब फूल कोई खिल जाये, लहरा के भंवरा आए
आने दो अगर, आता है इधर
फिर अपने आप उड़ जाये
हरजाई ये आदत तोरी है, तोरी ही रहने दो
दिल की किताब कोरी है…

चल दोगे मुस्कुरा के, नज़रों से तुम गिरा के
अच्छा?
जब प्यार किया, इक़रार किया
मानेंगे हम निभा के
हाय तेरी मेरी ये जोड़ी है, जोड़ी ही रहने दो
ओ दिल की किताब कोरी है…

Advertisements

तेरी नीली नीली आंखों के – Teri Neeli Neeli Aankhon Ke (Jaane Anjaane)


फ़िल्म/एल्बम: जाने-अनजाने (1971)
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
गायक/गायिका: लता मंगेशकर, मो.रफ़ी


तेरी नीली नीली आंखों के
दिल पे तीर चल गए

सूना था संसार हमारा, तूने आन बसाया
ओ शहज़ादी तुझको पा कर, मैंने सब कुछ पाया
मेरे खोये-खोये सपने भी
दिलबर आज मिल गए
तेरी नीली नीली आंखों…

मैंने अपने मन मंदिर में, साजन तुझको बसाया
तू मेरे नैनों का काजल, पलकों बीच सजाया
तेरी मीठी मीठी-बातों पे
हम तो हाय लुट गए
ये देख के दुनिया वालों के
दिल जल गए

जीवन भर हम साथ रहेंगे, करते हैं ये वादा
तुझपर अपनी जान भी देंगे, अपना है ये इरादा
तेरे भोले-भाले मुखड़े पे
हम तो हाय मिट गए
तेरी नीली नीली आंखों…

आओ तुम्हें मैं प्यार सिखा दूं – Aao Tumhein Main Pyar Sikha Doon (Upaasna)


फ़िल्म/एल्बम: उपासना (1971)
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: राजिंदर कृष्ण
गायक/गायिका: लता मंगेशकर, मो.रफ़ी


प्यार सिखा दूं, सिखला दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार सिखा दूं, सिखला दो ना
प्रेम नगर की डगर दिखा दूं, दिखला दो ना
दिल की धड़कन क्या होती है
ये अनजाना राज़ बता दूं, बतला दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार…

पहले धीरे से पलकों की तिलमन ज़रा गिरा लो
कैसे, ऐसे
अब अपने रुखसारों पर ये ज़ुल्फ़ ज़रा बिखरा लो
हूं ऐसे, हां ऐसे
देखो मुझको डर लागे, देखो मुझको डर लागे
जान क्या होगा आगे
सबर करो तो समझा दूं, समझा दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार…

छोड़ के बेगानापन अब तुम मेरे पास आ जाओ
आ गई, लो आ गई
भूल के सारी दुनिया, इन बाहों में खो जाओ
ना ना ना ना, ना बाबा ना
प्यार नहीं होता ऐसे, प्यार नहीं होता ऐसे
होता है फिर वो कैसे
ठहरो तुमको समझा दूं, समझा दो ना
आओ तुम्हें मैं प्यार…

फूल की खुशबू, पवन की सूरत कभी आंख से देखी
नहीं तो
तन तो देखा, मन की मूरत, कभी आंख से देखी
नहीं नहीं
प्यार नहीं कोई वासना, प्यार नहीं कोई वासना
ये तो एक उपासना
समझे? नहीं समझे?
आओ तुम्हें मैं समझा दूं…

जो तुम हंसोगे तो दुनिया – Jo Tum Hansoge To Duniya (Kathputli)


फ़िल्म/एल्बम: कठपुतली (1971)
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार: वर्मा मलिक
गायक/गायिका: किशोर कुमार


जो तुम हंसोगे तो दुनिया हंसेगी
रोओगे तुम तो ना रोएगी दुनिया
तेरे आंसुओं को समझ ना सकेगी
तेरे आंसुओं पे हंसेगी ये दुनिया

सूरज की किरणों ने जग में किया सवेरा
दीपक जो हंसने लगा तो हो गया दूर अंधेरा
जगमगाते रहो, गुनगुनाते रहो
ज़िन्दगी में सदा मुस्कराते रहो
जो तुम हंसोगे तो दुनिया…

कली हंसी तो फूल खिला, फूल से हंसे नज़ारे
लेकर हंसी नज़ारों की, हंस दिए चांद-सितारे
तुम सितारों की तरह, तुम नज़ारों की तरह
ज़िन्दगी में सदा मुस्कराते रहो
जो तुम हंसोगे तो दुनिया…

मुझको ठण्ड लग रही है – Mujhko Thand Lag Rahi Hai (Main Sundar Hoon)


फ़िल्म/एल्बम: मैं सुन्दर हूं (1971)
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: आनंद बक्षी
गायक/गायिका: आशा भोंसले, किशोर कुमार


मुझको ठण्ड लग रही है, मुझसे दूर तू न जा
न जा, न जा, न जा, न जा
आग दिल में लगी है, मेरे पास तू न आ
न आ, न आ, न आ, न आ
मुझको ठण्ड लग रही है…

आग और पानी का संगम हो तो क्या अंजाम हो
नाम दोनों का ज़माने में बहुत बदनाम हो
जो बदनामी का डर था, तो फिर प्यार क्यों किया
मुझको ठण्ड लग रही है…

दूर रहना चाहिए थोड़ा सा मुलाक़ात में
क्या कहा फिर से तो कहना हाथ लेकर हाथ में
होश में रहने दे, मदहोश न बना
आग दिल में लगी है…

क्या करूं होठों पे इस दिल के फ़साने आ गए
दो मुलाकातों में तुझको सौ बहाने आ गए
लोग सुनते हैं सारे, आहिस्ता-आहिस्ता
मुझको ठण्ड लग रही है…