क़रीब आ ये नज़र फिर मिले मिले ना मिले – Kareeb Aa ye Nazar Phir Mile


फ़िल्म: अनीता / Anita (1967)
गायक/गायिका: लता मंगेशकर
संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
गीतकार: राजा मेहंदी अली खान
अदाकार: मनोज कुमार, साधना


क़रीब आ ये नज़र फिर मिले मिले ना मिले
ये आरज़ू का चमन फिर खिले खिले न खिले
क़रीब आ ये नज़र…

भटक रही हूँ सदियों से तेरी राहों में
पनाह दे किसी घायल को अपनी बाँहों में
ये दिल का ज़ख़्म कभी फिर फिर खिले खिले ना खिले
क़रीब आ ये नज़र…

तरस रहा है ये दिल तेरी इक नज़र के लिए
बस एक नज़र तेरी काफ़ी है उम्र भर के लिए
नज़र से प्यार जता लब हिले हिले ना हिले
क़रीब आ ये नज़र…

नज़र उठा के तेरे सामने बहार खड़ी
कोई हसीना निगाहों में ले के प्यार खड़ी
फिर इस अदा की कली खिले खिले ना खिले
क़रीब आ ये नज़र…

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s