कैसे समझाऊँ बड़ी नासमझ हो – Kaise Samjhaoon Badi Nasamajh Ho (Suraj)


फ़िल्म: सूरज / Suraj (1966)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: अजीत, राजेंद्र कुमार, वैजयन्तीमाला


कैसे समझाऊँ बड़ी नासमझ हो – 2
हमसे न जीतोगी तुम रहने दो ये बाज़ी
कैसे समझाऊँ…

कैसे समझाऊँ बड़े नासमझ हो – 2
आए-गए तुम जैसे सैकड़ों अनाड़ी
कैसे समझाऊँ…

हम दिल का साज़ बजाते हैं दुनिया के होश उड़ाते हैं
हम सात सुरों के सागर हैं हर महफ़िल में लहराते हैं – 2
कैसे समझाऊँ…

तुम साज़ बजाना क्या जानो तुम रंग जमाना क्या जानो – 2
महफ़िल तो हमारे दम से है तुम होश उड़ाना क्या जानो – 2
कैसे समझाऊँ…

मैं नाचूँ चाँद-सितारों पर शोलों पर शरारों पर
हम ऐसी कला के दीवाने छा जाएँ नशीली बहारों पर
कैसे समझाऊँ…

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s