लग जा गले दिलरुबा – Lag Ja Gale Dilruba (Dus Lakh)


फ़िल्म: दस लाख / Das Lakh (1966)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: रवि
गीतकार: प्रेम धवन
अदाकार: हेलन, प्राण, संजय खान, बबीता


लग जा गले दिलरुबा
कहाँ रूठ के चली
ओ गुलाब की कली
तेरे कदमों में दिल है मेरा
लग जा गले दिलरुबा…

ऐ शोला बदन ऐ ज़ोहरा जबीं
तुम गुस्से में लगती हो और हसीं
बैठा हूँ जिगर को थामे हुए
मुझ पे न गिरे ये बिजली कहीं
क्या कहने नज़ाकत के
सामाँ है क़यामत के
मैं तो पहली नज़र में गया
लग जा गले दिलरुबा…

इतरा के न चल, बलखा के न चल
आँचल को हवा में उड़ा के न चल
बन जायेगा कोई अफ़साना
दिल को मेरे तड़पा के न चल
इतना न सितम करना
कुछ नज़र-ए-क़रम करना
देखिये दिल है नाज़ुक मेरा
लग जा गले दिलरुबा…

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s