जाता हूँ मैं मुझे अब ना बुलाना – Jaata Hoon Main Mujhe An Na Bulana (Daadi Maa)


फ़िल्म: दादी मां / Daadi Maa (1966)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: रोशन
गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार: शशिकला, रहमान, अशोक कुमार, मुमताज़, बीना राय


जाता हूँ मैं मुझे
अब ना बुलाना
मेरी याद भी अपने
दिल में न लाना
मेरा है क्या मेरी
मन्ज़िल न कोई ठिकाना
जाता हूँ मैं

(प्यासा था बचपन जवानी भी
मेरी प्यासी
पीछे ग़मों की गली
आगे उदासी) – 2
हो मैं तन्हाई का राही
कोई अपना ना बेगाना

मुझे अब न बुलाना
मेरी याद भी अपने
दिल में न लाना
मेरा है क्या मेरी
मन्ज़िल न कोई ठिकाना
जाता हूँ मैं

(मुझको हँसी भी मिली
साये लिये दुख के
खुल के न रोया किसी
काँधे पे झुक के) – 2
हो मेरा जीवन भी क्या है
अधूरा सा इक अफ़साना

मुझे अब न बुलाना
मेरी याद भी अपने
दिल में न लाना
मेरा है क्या मेरी
मन्ज़िल न कोई ठिकाना
जाता हूँ मैं

(था प्यार का इक दिया
वो भी बुझा डाला
धुँधला सा भी कहीं
क्यूँ हो उजाला) – 2
हो अब उन यादों से कह दो
मेरी दुनिया में ना आना

मुझे अब न बुलाना
मेरी याद भी अपने
दिल में न लाना
मेरा है क्या मेरी
मन्ज़िल न कोई ठिकाना

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s