चेहरे पे ख़ुशी छा जाती है – Chehre Pe Khushi Chha Jaati Hai (Waqt)


फ़िल्म: वक्त / Waqt (1965)
गायक/गायिका: आशा भोंसले
संगीतकार: रवि
गीतकार: साहिर लुधियानवी
अदाकार: शशिकला, शशि कपूर, सुनील दत्त, बलराज साहनी, शर्मिला टैगोर, साधना, राज कुमार


चेहरे पे ख़ुशी छा जाती है आँखों में सुरूर आ जाता है – 2
जब तुम मुझे अपना कहते हो अपने पे ग़ुरूर आ जाता है
चेहरे पे ख़ुशी…

तुम हुस्न की ख़ुद एक दुनिया हो शायद ये तुम्हें मालूम नहीं – 2
शायद ये तुम्हें मालूम नहीं
महफ़िल में तुम्हारे आने से हर चीज़ पे नूर आ जाता है
जब तुम मुझे अपना…

हम पास से तुमको क्या देखें तुम जब भी मुक़ाबिल आते हो – 2
तुम जब भी मुक़ाबिल आते हो
बेताब निगाहों के आगे परदा सा ज़रूर आ जाता है
जब तुम मुझे अपना…

जब तुमसे मुहब्बत की हमने तब जा के कहीं ये राज़ खुला – 2
तब जा के कहीं ये राज़ खुला
मरने का सलीका आते ही जीने का शऊर आ जाता है
जब तुम मुझे अपना…

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s