तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे – Tera Husn Rahe Mera Ishq Rahe (Do Dil)

फ़िल्म: दो दिल / Do Dil (1965)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: हेमंत कुमार
गीतकार: कैफ़ी आज़मी
अदाकार: विश्वजीत, राजश्री



तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे,
तो ये सुबह ये शाम रहे न रहे
चले प्यार का नाम ज़माने में,
किसी और का नाम रहे न रहे
तेरा हुस्न रहे… ये शाम रहे न रहे

मेरी प्यास का कोई हिसाब नहीं,
तेरी मस्त नज़र का जवाब नहीं – 2
इसी मस्त नज़र से पिलाए जा – 2
मेरे सामने जाम रहे न रहे
तेरा हुस्न रहे… ये शाम रहे न रहे

मैं बहकने लगा हूँ सम्हाल ज़रा,
मेरे पास ही रह, कहीं दूर न जा
कोई ठीक नहीं कि बहारों का
यहाँ और क़ियाम रहे न रहे

जो निगाह उठी तो पयाम मिला, जो निगाह झुकी तो अलाम मिला
इसी वक़्त बुझा दे लगि दिल की, ये पयाम-सलाम रहे न रहे
तेरा हुस्न रहे… ये शाम रहे न रहे

तेरा हुस्न रहे मेरा इश्क़ रहे,
तो ये सुबह ये शाम रहे न रहे
चले प्यार का नाम ज़माने में, किसी और का नाम रहे न रहे
तेरा हुस्न… ये शाम रहे न रहे

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.