तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूँ – Tere Husn Ki Kya Tareef Karun (Leader)

फ़िल्म: लीडर / Leader (1964)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
संगीतकार: नौशाद
गीतकार: शकील बदांयुनी
अदाकार: दिलीप कुमार, वैजयन्तीमाला



तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूँ
तेरे हुस्न की
तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूँ
कुछ कहते हुए भी डरता हूँ
कहीं भूल से तू ना समझ बैठे
की मैं तुझसे मोहब्बत करता हूँ

मेरे दिल में कसक सी होती है, मेरे दिल में
मेरे दिल में कसक सी होती है
तेरे राह से जब मैं गुज़रती हूँ
इस बात से ये ना समझ लेना
की मैं तुझसे मोहब्बत करती हूँ

(तेरी बात मे गीतों की सरगम
तेरी चाल मे पायल की छम छम) – 2
कोई देख ले तुझको एक नजर – 2
मर जाएं तेरी आँखों कसम
मैं भी हूँ अजब इक दीवाना
मरता हूँ ना आहें भरता हूँ
कहीं भूल से तू ना समझ बैठे
की मैं तुझसे मोहब्बत करता हूँ

(मेरे सामने जब तू आता है
जी धक से मेरा हो जाता है) – 2
लेती है तमन्ना अंगड़ायी – 2
दिल जाने कहाँ खो जाता है
महसूस ये होता है मुझको
जैसे मैं तेरा दम भरती हूँ
इस बात से ये ना समझ लेना
की मैं तुझसे मोहब्बत करती हूँ

तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूं
कुछ कहते हुए भी डरता हूँ
कहीं भूल से तू ना समझ बैठे
की मैं तुझसे मोहब्बत करता हूँ

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s