दिल में एक जान-ए-तमन्ना ने जगह पाई है – Dil Mein Ek Jaan-e-Tamanna (Benazir)

फ़िल्म: बेनज़ीर / Benazir (1964)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: एस. डी. बर्मन
गीतकार: शकील बदांयुनी
अदाकार: अशोक कुमार, शशि कपूर, तनुजा, निरुपा राय, मीना कुमारी



आज शीशे में बार-बार उन्हें दिल की सूरत दिखाई देती है
अपनी सूरत नज़र नहीं आती मेरी सूरत दिखाई देती है

दिल में एक जान-ए-तमन्ना ने जगह पाई है
आज गुलशन में नहीं घर में बहार आई है

आ गया आ गया मेरे तसव्वुर में कोई परदानशीन – 2
आज हर चीज़ नज़र आती है मुझको हसीं
क्या करूँ मैं बड़ी दिलकश मेरी तन्हाई है
आज गुलशन में नहीं…

बहकी-बहकी नशा-ए-हुस्न में खोई-खोई
जैसे ख़्यालों की रंगीन रुबाई कोई
दिल के शीशे में परी बन के उतर आई है
आज गुलशन में नहीं…

हुस्न के सामने इज़हार-ए-वफ़ा है मुश्किल – 2
काश छुप कर ही वो सुन ले मेरा नाला-ए-दिल
जिसने प्यार की मंज़िल मुझे दिखलाई है
आज गुलशन में नहीं…

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s