बंदिनी – Songs of Bandini (1963)


फ़िल्म: बंदिनी / Bandini (1963)
गायक/गायिका: आशा भोंसले
संगीतकार: एस. डी. बर्मन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: अशोक कुमार, धर्मेंद्र, नूतन

अब के बरस भेज भैया को बाबुल
सावन ने लीजो बुलाय रे
लौटेंगी जब मेरे बचपन की सखीयाँ
देजो संदेशा भियाय रे
अब के बरस भेज भीयको बाबुल…

अम्बुवा तले फिर से झूले पड़ेंगे
रिमझिम पड़ेंगी फुहारें
लौटेंगी फिर तेरे आँगन में बाबुल
सावन की ठंडी बहारें
छलके नयन मोरा कसके रे जियरा
बचपन की जब याद आए रे
अब के बरस भेज भीयको बाबुल…

बैरन जवानी ने चीने खिलौने
और मेरी गुड़िया चुराई
बाबुल की मैं तेरे नाज़ों की पाली
फिर क्यों हुई मैं पराई
बीते रे जग कोई चिठिया न पाती
न कोई नैहर से आये, रे
अब के बरस भेज भीयको बाबुल…


फ़िल्म: बंदिनी / Bandini (1963)
गायक/गायिका: आशा भोंसले
संगीतकार: एस. डी. बर्मन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: अशोक कुमार, धर्मेंद्र, नूतन

दो नैनन के मिलन को दो नैना बुलाएं
जब नैना हों सामने तो नैना झुक जाएं

(ओ पंछी प्यारे सांझ सखारे
बोले तू कौन सी बोली बता रे
बोले तू कौन सी बोली) – 2

मैं तो पंछी पिंजरे की मैना
पँख मेरे बेकार
बीच हमारे सात रे सागर
(कैसे चलूँ उस पार) – 2
ओ पंछी प्यारे…

फागुन महीना फूली बगिया
आम झरे अमराई
मैं खिड़की से चुप चुप देखूँ
(ऋतु बसंत की आई) – 2
ओ पंछी प्यारे…


फ़िल्म: बंदिनी / Bandini (1963)
गायक/गायिका: लता मंगेशकर
संगीतकार: एस. डी. बर्मन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: अशोक कुमार, नूतन

जोगी जबसे तू आया मेरे द्वारे
मेरे रँग गए सांझ सकारे
तू तो अँखियों में जान-ए-जी की बतियाँ
तुझसे मिलना ही ज़ुल्म भाया रे
ओ जोगी जबसे…

देखी साँवली सूरत ये मैना जुदाए
देखी साँवली सूरत
तेरी छबी देखी जबसे रे
तेरी छबी देखी जबसे रे नैना जुदाए
भए बिन कजरा ये कजरारे

ओ जोगी जबसे…

जाके पनघट पे बैठूँ मैं, राधा दीवानी
जाके पनघट पे बैठूँ मैं
बिन जल लिए चली आयूँ
बिन जल लिए चली आयूँ, राधा दीवानी
ओ जोगी जबसे तू…

मीठी मीठी अगन ये सह न सकूँगी
मीठी मीठी अगन ये
मैं तो छुई-मुई अबला रे
मैं तो छुई-मुई अबला रे सह न सकूँगी
मेरे और निकट मत आ रे
ओ जोगी जबसे तू…


फ़िल्म: बंदिनी / Bandini (1963)
गायक/गायिका: मन्ना डे
संगीतकार: एस. डी. बर्मन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: अशोक कुमार, धर्मेंद्र, नूतन

मत रो माता लाल तेरे बहुतेरे – 2
जनमभूमि के काम आया मैं
बड़े भाग हैं मेरे
मत रो माता लाल तेरे बहुतेरे
मत रो

(हो हँस कर मुझको आज विदा कर
जनम सफ़ल हो मेरा) – 2
रोता जग में आया
हँसता चला ये बालक तेरा
मत रो माता लाल तेरे बहुतेरे
मत रो

(हो कल मैं नहीं रहूँगा लेकिन
जब होगा अन्धियारा) – 2
तारों में तू देखेगी
हँसता एक नया सितारा
मत रो माता लाल तेरे बहुतेरे
मत रो

फिर जनमूँगा उस जिन
जब आज़ाद बहेगी गन्गा
मइया
फिर जनमूँगा उस जिन
जब आज़ाद बहेगी गन्गा
उन्नत भाल हिमालय पर
जब लहरायेगा तिरन्गा

मत रो माता लाल तेरे बहुतेरे
जनमभूमि के काम आया मैं
बड़े भाग हैं मेरे
मत रो माता लाल तेरे बहुतेरे
मत रो


फ़िल्म: बंदिनी / Bandini (1963)
गायक/गायिका: लता मंगेशकर
संगीतकार: एस. डी. बर्मन
गीतकार: गुलज़ार
अदाकार: अशोक कुमार, धर्मेंद्र, नूतन

मोरा गोरा अंग लइ ले
मोहे शाम रंग दइ दे
छुप जाऊँगी रात ही में
मोहे पी का संग दइ दे

एक लाज रोके पैयाँ
एक मोह खींचे बैयाँ
हाय
एक लाज रोके पैयाँ
एक मोह खींचे बैयाँ
जाऊँ किधर न जानूँ
हम का कोई बताई दे
मोरा गोरा अंग लइ ले
मोहे शाम रंग दइ दे
छुप जाऊँगी रात ही में
मोहे पी का संग दइ दे

बदरी हटा के चंदा
चुप के से झाँके चंदा
बदरी हटा के चंदा
चुप के से झाँके चंदा
तोहे राहू लागे बैरी
मुस्काये जी जलाइ के
हो~ ओ~
मोरा गोरा अंग लइ ले
मोहे शाम रंग दइ दे
छुप जाऊँगी रात ही में
मोहे पी का संग दइ दे

कुछ खो दिया है पाइ के
कुछ पा लिया गवाइ के~
कुछ खो दिया है पाइ के
कुछ पा लिया गवाइ के
कहाँ ले चला है मनवा
मोहे बाँवरी बनाइ के
मोरा गोरा अंग लइ ले
मोहे शाम रंग दइ दे
छुप जाऊँगी रात ही में
मोहे पी का संग दइ दे


फ़िल्म: बंदिनी / Bandini (1963)
गायक/गायिका: मुकेश
संगीतकार: एस. डी. बर्मन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: अशोक कुमार, धर्मेंद्र, नूतन

ओ जानेवाले हो सके तो लौट के आना
ये घाट तू ये बाट कहीं भूल न जाना

बचपन के तेरे मीत तेरे संग के सहारे
ढूँढेंगे तुझे गली-गली सब ये ग़म के मारे
पूछेगी हर निगाह कल तेरा ठिकाना
ओ जानेवाले…

है तेरा वहाँ कौन सभी लोग हैं पराए
परदेस की गरदिश में कहीं तू भी खो ना जाए
काँटों भरी डगर है तू दामन बचाना
ओ जानेवाले…

दे दे के ये आवाज़ कोई हर घड़ी बुलाए
फिर जाए जो उस पार कभी लौट के न आए
है भेद ये कैसा कोई कुछ तो बताना
ओ जानेवाले…


फ़िल्म: बंदिनी / Bandini (1963)
गायक/गायिका: एस. डी. बर्मन
संगीतकार: एस. डी. बर्मन
गीतकार: शैलेंद्र सिंह
अदाकार: अशोक कुमार, नूतन

ओ रे माझी ओ रे माझी ओ ओ मेरे माझी
मेरे साजन हैं उस पार, मैं मन मार, हूँ इस पार
ओ मेरे माझी, अबकी बार, ले चल पार, ले चल पार
मेरे साजन हैं उस पार…

हो मन की किताब से तू, मेरा नाम ही मिटा देना
गुन तो न था कोई भी, अवगुन मेरे भुला देना
मुझको तेरी बिदा का…
मुझको तेरी बिदा का मर के भी रहता इंतज़ार
मेरे साजन…

मत खेल जल जाएगी, कहती है आग मेरे मन की
मत खेल…
मत खेल जल जाएगी, कहती है आग मेरे मन की
मैं बंदिनी पिया की चिर संगिनी हूँ साजन की
मेरा खींचती है आँचल…
मेरा खींचती है आँचल मन मीत तेरी हर पुकार
मेरे साजन हैं उस पार
ओ रे माझी ओ रे माझी ओ ओ मेरे माझी
मेरे साजन हैं उस पार…

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s