चाइना टाउन – All Songs of China Town (1962)



फ़िल्म: चाइना टाउन / China Town (1962)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: रवि
गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार: शकीला, शम्मी कपूर

बार बार देखो, हज़ार बार देखो
के देखने की चीज़ है, हमारा दिलरुबा, टाली हो
टाली हो, टाली हो

(हाँ जी हाँ, और भी होंगे दिलदार यहाँ
लाखों दिलों की बहार यहाँ
पर ये बात कहाँ) – 2
ये बेमिसाल हुस्न, लाजवाब ये आदा, टाली हो
टाली हो, टाली हो

(दिल मिला, एक जान-ए-महफ़िल मिला
या चिराग़-ए-मंज़िल मिला
ये न पूछो के कहाँ) – 2
नया नया ये आशिक़ी का राज़ है मेरा, टाली हो
टाली हो, टाली हो

(बल्ले बल्ले, उठके मिस्टर क्यों चले
प्यार पे मेरे कहो क्यों जले
बैठ भी जाओ मेहरबाँ) – 2
दुआ करो मिले तुम्हें भी ऐसा दिलरुबा, टाली हो
टाली हो, टाली हो


फ़िल्म: चाइना टाउन / China Town (1962)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, मीनू पुरुषोत्तम
संगीतकार: रवि
गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार: शकीला, शम्मी कपूर

देखो जी एक बाला जोगी मतवाला जोगी
द्वार तेरे आयो री
देखो जी एक बाला जोगी…

आया हूँ द्वार तोरे मिलने की आस लिए
तेरे दरस की मैं अँखियों में प्यास लिए
नैनों के पट खोल दीवानी कुछ तो बोल दीवानी
मुखड़ा काहे छुपायो रे
देखो जी एक बाला जोगी…

न किसी देस का है न किसी गाँव का है
मिलने का सहारा ले के इकतारा ले के
मन का राग सुनायो री
देखो जी एक बाला जोगी…

काहे ये रूप धारा कोई न भेद जाने
तू मेरी मैं तेरा यह दुनिया माने न माने
मैने तो तेरा हो के दीवाना देखा सारा ज़माना
चैन कहीं ना पायोरी
देखो जी एक बाला जोगी…


फ़िल्म: चाइना टाउन / China Town (1962)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले
संगीतकार: रवि
गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार: शकीला, शम्मी कपूर

हमसे मत पूछो कि हम क्या कर गए
किस तरह नज़रों का दामन भर गए
कोई इनकी शोख़ियाँ देखा किए
हम तो इनकी सादग़ी पर मर गए

हाय अल्ला-क़सम बड़ा क़ातिल है मेरा यार
चिना चिन चिन चू – 2
हाथ में तीर न तलवार
चिना चिन चिन चू

हाय ये नाज़ के जिस नाज़ पे लैला मिट जाए
हाय ये हुस्न के जिस हुस्न पे दुनिया लुट जाए
दिल इसे देखे तो मुश्क़िल है कि ख़ामोश रहे
मेरा जिम्मा है किसी को भी अगर होश रहे
हाय-हाय सदक़े
है कुछ ऐसा मेरा दिलदार
चिना चिन चिन चू
बड़ा क़ातिल है…
हाथ में तीर…

इनकी हर बात पे निकले न मेरा दम कैसे
ये अदाएँ हों तो क़ुर्बान न हों हम कैसे
कभी इस तरह ख़फ़ा जैसे कोई प्यार करे
कभी ख़ामोश कि जैसे कोई इकरार करे
और कभी इकरार में इन्कार
चिना चिन चिन चू
बड़ा क़ातिल है…
बड़ा क़ातिल है…
हाथ में तीर…

हमने चाहा था कि ज़ालिम को न चाहेंगे कभी – 2
इक सितमगर से यूँ न निभाएँगे कभी
पर करें क्या कि हमी ख़फ़ा हो के भूल गए
जब मिली आँख तो सब ज़ोर-ओ-जफ़ा भूल गए
ओ क़सम ख़ुदा की क्या करें आ ही गया प्यार
चिना चिन चिन चू
बड़ा क़ातिल है…
हाथ में तीर…
बड़ा क़ातिल है…


फ़िल्म: चाइना टाउन / China Town (1962)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले
संगीतकार: रवि
गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार: शकीला, शम्मी कपूर

हमसे न पूछो हम कहाँ चले
ये दिल जहाँ ले चला वहाँ चले
नज़ारे पीछे-पीछे बहारें पीछे-पीछे
दीवानों का जिधर कारवाँ चले
हमसे न पूछो…

दुनिया है शहर अरमानों का
बिखरे-बिखरे अफ़सानों का
फ़साने ये सुनाते चले हैं हम गाते
कि जैसे नग़्मों का कारवाँ चले
हमसे न पूछो…

सपनों का चमन है रंग लिए
धरती-गगन को है संग लिए
डाली पे कली झूमें बनके जैसे फूल
क़दम तले जैसे आसमाँ चले
हमसे न पूछो…

नैया पे चले जब हौले से
पानी में बहक गए शोले से
नज़र को मिलाए जो हम लहराए
तो लहरों ने पूछा कहाँ चले
हमसे न पूछो…


फ़िल्म: चाइना टाउन / China Town (1962)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले
संगीतकार: रवि
गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार: शकीला, शम्मी कपूर

यम्मा-यम्मा-यम्मा सौ परवाने इक शमा – 2
बहका है (हर दिलवाला) – 2
देखो मचलना – 2
कहता है हर कोई मुझसे – 2
जान-ए-तमन्ना – 2
यम्मा-यम्मा…

नज़रें बचा के मैं (कैसे जाऊँ) – 2
रोके ज़माना मैं झूम-झूम चल ना पाऊँ – 2
तड़पे है (हर दीवाना) – 2
भर-भर के आहें – 2
रुकती हैं (आकर मुझपे) – 2
सबकी निगाहें – 2
हो यम्मा-यम्मा…

जिसको भी देखो दिल हाथों में है – 2
आँखों में मस्ती तो प्यार-प्यार बातों में है
छलका है (सबके दिल में) – 2
चाहत का प्याला – 2
हर दिल में (कैसे डोलूँ) – 2
बन के उजाला – 2
यम्मा-यम्मा…

क्या तेरी महफ़िल है सनम
खो गए हम अल्ला की क़सम
हाय मेरी बहकी धुन पर न जा
साथ मेरे तू भी गा
या दिलरुबा – 2
दिल को ले गई तेरी अदा
हाय रे कैसा दर्द दिया
मेरी जाँ मैं तुझ पे फ़िदा
या दिलरुबा – 2

महफ़िल में (तेरे हुस्न का) – 2
शोला जो भड़के – 2
पहलू में (बेक़रार दिल) – 2
ओ कैसे न धड़के – 2
यम्मा-यम्मा…
यम्मा-यम्मा…

यम्मा-यम्मा इक परवाना – 2
यम्मा-यम्मा सौ परवाने- 2


फ़िल्म: चाइना टाउन / China Town (1962)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले
संगीतकार: रवि
गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार: शकीला, शम्मी कपूर

ये रंग न छूटेगा उल्फ़त की निशानी है
कुछ तेरा फ़साना है कुछ मेरी कहानी है
ये रंग न छूटेगा…

लहरा के उठा मौसम रुत बनके क़रार आई
आई तो मगर कितना तरसा के बहार आई
तरसा के बहार आई पर कितना सुहानी है
ये रंग न छूटेगा…

आँखें हैं तुम्हारी या छलका हुआ पैमाना
अपना तो मुहब्बत में दिल हो गया दीवाना
या हम ही दीवाने हैं या रुत ही दीवानी है
ये रंग न छूटेगा…

देखो न भुला देना प्यार के वादों को
तुम भी न बदल देना चाहत के इरादों को
अब प्रीत लगी तुमसे कुछ मैने भी ठानी है
ये रंग न छूटेगा…

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s