ओ छलिया रे मन में हमार – O Chhalia Re Man Mein Hamaar (Ganga Jamuna)

फ़िल्म: गंगा जमुना / Ganga Jamuna (1961)
गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
संगीतकार: नौशाद
गीतकार: शकील बदांयुनी
अदाकार: दिलीप कुमार, नासिर खान, वैजयन्ती माला

ओ छलिया रे छलिया रे मन में हमार
नजर तोरी धँस गई
होय धीरे-धीरे हौले-हौले धँस गई

ओ जिया हमार कहरवा नाचे रे
आज मैना फँस गई
ओ धीरे-धीरे हौले-हौले फँस गई

ओ जा रे बेईमान तोरा कोई ना धरम
सुन तोरे बोल मोहे लागी रे शरम
ओ जा रे बेईमान तोरा कोई ना धरम
लो आज मोरा तुझ पे दिल है नरम
मोरा दिल है नरम – 2
हो माँग ले जो माँगना हो प्यार की क़सम
ओ पिया रे पिया तोरे नैनों की डोर
जीवन मोरा कस गई
हो धीरे-धीरे हौले-हौले कस गई

ओ बल खाए ऐसन तोरी पतली कमर
ओ जैसे डगमग हो शराबी की नजर
ओ बल खाए ऐसन तोरी पतली क़मर
ओ ललचाई अँखियों से देख न इधर
देख न इधर मोहे देख न इधर
ओ अंग-अंग जिया मोरा काँपे थर-थर
ओ तेरी ज़ुल्फ़ों में फँस गया रे
मोरा जिया रे नागन डस गई
धीरे-धीरे हौले-हौले डस गई

हाय पग में पायल मोरी बोले छन-छन
संग-संग आज मोरे नाचे रे सजन
हाय पग में पायल तोरी बोले छन-छन
ओ चाँद सी जवानी तोरी फूल सा बदन
ओ जीत लिया रूप वाली तूने मोरा मन
तोरी छबि ने गजब किया
चोरी-चोरी जिया में बस गई
धाय-धाय धिग धांय धिन धाय धिग – 2
दाय ताय किढ़ताय किढ़ किढ़ किढ़ – 2

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s