ये ज़िंदगी उसी की है – Ye Zindagi Usi Ki Hai (Anarkali)

फ़िल्म: अनारकली / Anaarkali (1953)
गायक/गायिका: लता मंगेशकर
संगीतकार: सी. रामचंद्र
गीतकार: राजेंद्र कृष्ण
अदाकार: प्रदीप कुमार, बीना राय




ये ज़िंदगी उसी की है, जो किसी का हो गया
प्यार ही में खो गया, ये ज़िंदगी …

ये बहार, ये समा, कह रहा है प्यार कर
किसी की आरज़ू में अपने दिल को बेक़रार कर
ज़िंदगी है बेवफ़ा…
ज़िंदगी है बेवफ़ा, लूट प्यार का मज़ा
ये ज़िंदगी …

धड़क रहा है दिल तो क्या, दिल की धड़कनें ना सुन
फिर कहां ये फ़ुर्सतें, फिर कहाँ ये रात-दिन
आ रही है ये सदा…
आ रही है ये सदा, मस्तियों में झूम जा
ये ज़िंदगी …

दो दिल यहाँ न मिल सके, मिलेंगे उस जहान में
खिलेंगे हसरतों के फूल, मौत के आस्मान में
ये ज़िंदगी चली गई जो प्यार में तो क्या हुआ
ये ज़िंदगी …

सुना रही है दास्तां, शमा मेरे मज़ार की
फ़िज़ा में भी खिली रही, ये कली अनार की
इसे मज़ार मत कहो, ये महल है प्यार का
ये ज़िंदगी …

ऐ ज़िंदगी की शाम आ, तुझे गले लगाऊं मैं
तुझी में डूब जाऊं मैं
जहाँ को भूल जाऊं मैं
बस एक नज़र मेरे सनम, अल्विदा, अल्विदा
अल्विदा … अल्विदा …
अल्विदा … अल्विदा …

Advertisements

One comment on “ये ज़िंदगी उसी की है – Ye Zindagi Usi Ki Hai (Anarkali)

  1. Srihari कहते हैं:

    Fiza ki jagaha waha per khiza pada jaye. Khiza means patjhad in this song anarkali survived against adverse condition it denotes that. Thx.

    पसंद करें

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.