बात-बात में रूठो न – Baat Baat Mein Rutho Na (Seema)

फ़िल्म: सीमा / Seema (1955)
गायक/गायिका: लता मंगेशकर
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: नूतन, बलराज साहनी, शोभा खोटं



बात-बात में रूठो न
अपने आप को लूटो न
( ये रंग बदलती दुनिया है
तक़दीर पे अपनी रूठो न ) – 2
बात-बात में रूठो न

( लाज की लाली आज बनी है
भीगी पलकें अबरू तनी है ) – 2
( आँखों में सुर्ख़ी दिल में मुहब्बत
होँठों पे छुप्पी हँसी है ) – 2

बात-बात में रूठो न
अपने आप को लूटो न
ये रंग बदलती दुनिया है
तक़दीर पे अपनी रूठो न
बात-बात में रूठो न

( ढलती हैं रातें ले कर अंधेरा
लायीं बहारें नया सवेरा ) – 2
( जीवन सफ़र में दुख हो या सुख हो
करना है फिर भी बसेरा ) – 2

बात-बात में रूठो न
अपने आप को लूटो न
ये रंग बदलती दुनिया है
तक़दीर पे अपनी रूठो न
बात-बात में रूठो न

( फूल ख़ुशी के हर कोई ले-ले
कोई न देखे आँसू के मेले ) – 2
( तुम जो हँसे तो हँस देगी दुनिया
रोना पड़ेगा अकेले ) – 2

बात-बात में रूठो न
अपने आप को लूटो न
ये रंग बदलती दुनिया है
तक़दीर पे अपनी रूठो न
बात-बात में रूठो न

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s