पर्वतों से आज मैं टकरा गया – Parbaton Se Aaj main Takra Gaya

फ़िल्म – बेताब (1983)
गायक/गायिका – शब्बीर कुमार
संगीतकार – आर. डी. बर्मन
गीतकार – आनंद बख्शी
अदाकार – सनी देओल, अमृता सिंह

प्रेमी हूँ पागल हूँ मैं, पागल हूँ मैं, पागल हूँ मैं
रूप का सागर हूँ मैं, सागर हूँ मैं , सागर हूँ मैं
प्यार का बादल हूँ मैं
पर्वतों से आज मैं टकरा गया
तुम ने दी आवाज़ लो मैं आ गया ( 2)

तुम बुलाओ मैं ना आऊं ऐसा हरजाई नहीं
इतने दिन तुमको ही मेरी ( 2) याद तक आई नहीं
आ गया जादू का मौसम आ गया
तुम ने दी आवाज़ लो मैं आ गया
हो हो पर्वतों से आज मैं टकरा गया
तुम ने दी आवाज़ लो मैं आ गया

उम्र ही ऐसी है कुछ ये तुम किसी से पूछ लो
एक साथी की ज़रूरत ( 2) पड़ती है हर एक को
दिल तुम्हारा इस लिये घबरा गया
तुम ने दी आवाज़ लो मैं आ गया
हो हो पर्वतों से आज मैं टकरा गया
तुम ने दी आवाज़ लो मैं आ गया

खोल कर इन बन्द आँखों को झरोखों की तरह
चोर आवारा हवा के मस्त झोंकों की तरह
रेशमी ज़ुल्फ़ों को मैं बिखरा गया
तुमने दी आवाज़ लो मैं आ गया
हो हो हो पर्वतों से आज मैं टकरा गया …

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.