धक-धक से धड़कना भुला दे – Dhak-Dhak Se Dhadakna


फिल्मः आशा (1980)
गायक/गायिकाः मोहम्मद रफ़ी
संगीतकारः लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
गीतकारः आनंद बख्शी
कलाकारः जीतेंद्र, रीना रॉय


धक-धक से धड़कना भुला दे
छन-छन से छनकना सिखा दे -2
( मेरे दिल को पिरो के पायल में ) -2 ( हो गोरी ) -2
घुँघरू बना दे
धक-धक से …

( मुझसे भले ) -2 चाँदी के बटन तेरे जो कुर्ते पे तूने लगाए
वो पास कितने मैं दूर कितना कैसे मुझे चैन आए
( कुछ और नहीं तो क़दमों में ) -2 हो थोड़ी सी जगह दे
घुँघरू बना दे
धक-धक से …

( इस दुनिया में हैं इल्ज़ाम जितने ) -2 वो मेरे सर लग गए हैं
दिन-रात उड़ने की सोचता है इस दिल को पर लग गए हैं
( इस पंछी को ) -2 अपने नैनों के हो पिंजरे में बसा दे
घुँघरू बना दे
धक-धक से …

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s