ये जीना है अंगूर का दाना – Ye Jina Hai Angoor Ka Dana


फिल्मः खट्टा-मीठा (1978)
गायक/गायिकाः किशोर कुमार, ऊषा मंगेशकर
संगीतकारः राजेश रोशन
गीतकारः गुलज़ार
कलाकारः अशोक कुमार


खट्टा-मीठा -4
ये जीना है अंगूर का दाना
कुछ कच्चा है कुछ पक्का है
अरे जितना खाया मीठा था
जो हाथ ना आया खट्टा है
ये जीना है …

ये घूमता पहिया गोल रुपैया हाथ ना आए रे -2
अरे मैं हूँ इसके साथ ऐ साथी साथ ना जाए रे -2
अरे हाय हाय हाय हाय हाय दिल बोले
कि हाय दिल बोले
हाथ ना आए तो समझो है सपना
जेब में है तो माल है अपना
ये जीना है …

जी के देखो जीने वाले यूँ भी जीते हैं -2
दिन की चादर फट जाए तो रात को सीते हैं -2
अरे हाय हाय हाय हाय हाय दिल बोले
कि हाय दिल बोले
थोड़ा सा रो के थोड़ा सा हँसना
थोड़ा सा रुकना थोड़ा सा चलना
ये जीना है …

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s