बदनाम न हो जाये मुहब्बत का फ़साना – Badnam Na Ho Jaye Mohabbat Ka Fasana


फ़िल्म – शहीद (1948)
गायक/गायिका – सुरिंदर कौर
संगीतकार – गुलाम हैदर
गीतकार – क़मर जलालाबादी
अदाकार – दिलीप कुमार, कामिनी कौशल


बदनाम न हो जाये मुहब्बत का फ़साना
ऐ दर्द भरे आँसुओं आँखों में न आना

दुनियाँ में मुहब्बत की यही रीत है ऐ दिल
जल जाना मगर होंठों पर फ़रियाद न लाना
ऐ दर्द भरे आँसुओं …

कह दे ना कहीं आँख मेरे दिल की कहानी
ऐ दिल तेरी धड़कन कहीं सुन ले न ज़माना
ऐ दर्द भरे आँसुओं …

ऐ जान-ए-मुहब्बत यही बस मेरी दुआ है
हो जाये तेरे साथ मेरी जाँ भी रवा न
ऐ दर्द भरे आँसुओं …

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s