करूँ क्या आस निरास भई – Karun Kya Aas Niras Bhayi

फिल्मः दुश्मन (1939)
गायक/गायिकाः के. एल. सहगल
संगीतकारः पंकज मलिक
गीतकारः आरज़ू लखनवी
कलाकारः के. एल. सहगल

करूँ क्या आस निरास भई – 4
दिया बुझे फिर से जल जाये
रात अंधेरी जाये दिन आये
मिटती आस है ज्योत अंखियन की – 2
समझ गई तो गई
करूँ क्य …

जब ना किसीने राह सुझाई
दिलसे एक आवाज़ ये आई
हिम्मत बांध सम्भल बढ़ आगे, रोक नहीं है कोई,
करूँ क्या आस निरास …

करना होगा खून को पानी
देनी होगी हर क़ुरबानी
हिम्मत है तो इतना समझ ले, आस बंधेगी नई,
करूं क्या आस निरास …

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s