चाँद को क्या मालूम चाहता है उसे कोई चकोर – Chand Ko Kya Maloom


फिल्मः लाल बंगला (1966)
गायक/गायिकाः मुकेश
संगीतकारः ऊषा खन्ना
गीतकारः गुलशन बावरा
कलाकारः


चाँद को क्या मालूम चाहता है उसे कोई चकोर
वो बेचारा दूर से देखे – 2
करे न कोई शोर
चाँद को क्या मालूम …

दूर से देखे और ललचाये
प्यास नज़र की बढ़ती जाये, बढ़ती जाये
बदली क्या जाने है पागल
किसके मन का मोर
चाँद को क्या …

साथ चले तो साथ निभाना
मेरे साथी भूल ना जाना, भूल ना जाना
मैने तुम्हारे हाथ में दे दी
अपनी जीवन डोर
चाँद को क्या …

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s