सुन साहबा सुन प्यार की धुन – Sun Sahiba Sun Pyar Ki Dhun


फ़िल्म – राम तेरी गंगा मैली (1985)
गायक/गायिका – लता मंगेशकर
संगीतकार – रवींद्र जैन
गीतकार – रवींद्र जैन
अदाकार – राजीव कपूर, मंदाकिनी


सुन साहबा सुन प्यार की धुन
हो मैने तुझे चुन लिया तू भी मुझे चुन
सुन साहबा सुन …

कोई हसीना क़दम पहले बढ़ाती नहीं
मजबूर दिल से न हो तो पास आती नहीं -2
ख़ुशी मेरे दिल में हद से ज़्यादा है
तेरे संग ज़िन्दगी बिताने का इरादा है
ओ प्रीत के ये धागे तू भी संग मेरे बुन
सुन साहबा सुन …

तू जो हाँ कहे तो बन जाए बात भी
हो तेरा इशारा तो चल दूँ मैं साथ भी -2
तेरे लिए सायबा नाचूँगी मैं गाऊँगी
दिल में बसा ले तेरा घर भी बसाऊँगी
हो डाल दे निग़ाह कर दे प्यार का शगुन
सुन साहबा सुन …

ओ मेरा ही ख़ून-ए-जिगर देगा गवाही मेरी
तेरे ही हाथों लिखी शायद तबाही मेरी
दिल तुझपे वारा है जान तुझपे वारूँगी
आए के न आए तेरा रस्ता निहारूँगी
ओ कर ले क़बूल मुझे होगा बड़ा पुन
सुन साहबा सुन …

Advertisements

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s