हम जुदा हो गये, रास्ते खो गये – Hum Juda Ho Gaye (Gadar : Ek Prem Katha)


फ़िल्म: गदर – एक प्रेम कथा (2001)
संगीतकार: उत्तम सिंह
गीतकार: आनंद बक्षी
गायक/गायिका: प्रीति उत्तम, उदित नारायण


हम जुदा हो गये, रास्ते खो गये
मगर हम मिलेंगे, मगर हम मिलेंगे
ये याद रखना, मेरी राह तकना
हम जुदा हो गये…

कागज़ हो तो फाड़ दूं
धागा हो तो काट दूं
दुनिया हो तो छोड़ दूं
वादा कैसे तोड़ दूं
इस वादे पे मुझको
अब जीना, अब मरना
सजना
हम जुदा हो गये…

ऐ हवा तू ही जा
जा के उनको सुना
हाल मेरा है क्या
कैसे जी रही हूं मैं
जैसे मर रही हूं मैं
नाम तेरा रात दिन
याद कर रही हूं मैं
लोगों ने तोड़ा है
हर सपना मेरे दिल का
सजना
हम जुदा हो गये…

Advertisements

अभी तो मोहब्बत का आग़ाज़ है – Abhi To Mohabbat Ka Aaghaz Hai (Hum Ho Gaye Aap Ke)


फ़िल्म: हम हो गये आपके (2001)
संगीतकार: नदीम-श्रवण
गीतकार: समीर
गायक/गायिका: अल्का याग्निक, उदित नारायण


अभी तो मोहब्बत का आग़ाज़ है
अभी तो मोहब्बत का अंजाम होगा
बड़ा दिलनशीं तेरा अंदाज़ है
बड़ा खुबसूरत तेरा नाम होगा
अभी तो मोहब्बत…

ये आंखें, ये पलकें, ये बिंदिया, ये काजल
ये चूड़ी, ये कंगना, ये झुमके, ये पायल
बड़ी ही सुरीली ये आवाज़ है
इसे सुन के दिल को भी आराम होगा
अभी तो मोहब्बत…

ये मस्ती अदा की, ये ज़ुल्फों की खुशबू
ये होंठों की लाली, ये बातों का जादू
दीवाने सभी तेरे मोहताज हैं
कोई ना कोई तेरा गुलफाम होगा
अभी तो मोहब्बत…

हो हम हो गए आप के – Hum Ho Gaye Aaap Ke Titile Song


फ़िल्म: हम हो गये आपके (2001)
संगीतकार: नदीम-श्रवण
गीतकार: समीर
गायक/गायिका: अल्का याग्निक, कुमार सानू


क्यों बेख़ुदी सी छाई है
क्यों आग सी लगाई है आपने
ओ हम हो गए आप के
मेरा होश भी उड़ाया है
मेरी नींद भी चुराई है आपने
हो हम हो गए आप के…

पहले ऐसे कभी दिल धड़कता न था
बेवजह इस तरह से ये तड़पता न था
दर्द ऐसा कभी भी मुझको होता न था
हर घड़ी यूं मेरा चैन खोता ना था
मेरी जान पे बन आई है
हालत ये क्या बनाई है आपने
हो हम हो गए…

चोरी-चोरी मचलने से क्या फायदा
राज़-ए-दिल खोल देने का अपना मज़ा
मुझको है मेरी इन धड़कनों की कसम
आपको भी है मुझसे मोहब्बत सनम
इसमें नहीं बुराई है
ये बात क्यों छुपाई है आपने
हो हम हो गए…

दीवाना मैं ना था दीवाना बन गया – Diwana Main Na Tha (Indian)


फ़िल्म: इंडियन (2001)
संगीतकार: आनंद राज आनंद
गीतकार: आनंद बक्षी
गायक/गायिका: अल्का याग्निक, शान


दीवाना मैं ना था दीवाना बन गया
कब कैसे और क्या अफ़साना बन गया
ना तुझे है ख़बर, ना मुझे है मगर
जाने कब दिल से दिल मिल गया
दीवानी मैं हो गई, दीवाना मैं हो गया
दीवाना तू ना था, दीवाना बन गया
कब कैसे और क्या अफ़साना बन गया

जादू निग़ाहों का तेरी, मुझपे असर कर गया है
दिल दीवाना तुम्हारा, वादा कोई कर गया है
मैंने माना मेरी जां मैंने माना
दिल जो बोला वही कर दिया
दीवानी मैं हो गई…

धड़कने सुन रही हैं, धड़कनों की ज़ुबां को
ऐसा हसीं हो नज़ारा तो, कैसे ना अरमां जवां हो
तेरे बिन एक पल नहीं जीना
मैंने ये फ़ैसला कर लिया
दीवानी मैं हो गई…

उलझन सुलझे ना, रस्ता सूझे ना – Uljhan Suljhe Na (Dhundh)


फ़िल्म: धुन्द (1973)
संगीतकार: रवि
गीतकार: साहिर लुधियानवी
गायक/गायिका: आशा भोंसले


उलझन सुलझे ना, रस्ता सूझे ना
जाऊं कहां मैं, जाऊं कहां
उलझन सुलझे ना…

मेरे दिल का अंधेरा, हुआ और घनेरा
कुछ समझ न पाऊं, क्या होना है मेरा
खड़ी दो राहे पर, ये पूछूं घबरा कर
जाऊं कहां मैं, जाऊं कहां
उलझन सुलझे ना…

जो सांस भी आए, तन चीर के जाए
इस हाल से कोई, किस तरह निभाए
न मरना रास आया, न जीना मन भाया
जाऊं कहां मैं, जाऊं कहां
उलझन सुलझे ना…

रुत ग़म की गले ना, कोई आस फले ना
तक़दीर के आगे, मेरी पेश चले ना
बहुत की तदबीरें, न टूटी ज़ंजीरें
जाऊं कहां मैं, जाऊं कहां
उलझन सुलझे ना…